1st LeadJamshedpurJharkhandLead NewsMain SliderNationalTop Story

BIG NEWS : टाटा कंपनी सरकार नहीं कि जनता की सभी समस्याओं का समाधान करे : नरेंद्रन

1800 एकड़ की कंपनी के लिए 15000 एकड़ के शहर को संभालते हैं, हम सरकार का विकल्प नहीं , बाहर से मदद कर सकते हैं

Jamshedpur : टाटा स्टील के ग्लोबल एमडी टीवी नरेंद्रन ने सोमवार को कहा कि कंपनी सरकार नहीं है और न ही उसका विकल्प है कि जनता की सारी समस्याओं का समाधान करे. सिंहभूम चैंबर के कार्यक्रम में नरेंद्रन  ने कहा कि हम सरकार को सपोर्ट कर सकते हैं. किसी कंपनी के लिए एक शहर चलाना आसान नहीं है. 1800 एकड़ की कंपनी के लिए हम 15000 एकड़ के शहर को संभालते हैं. टाटा स्टील की दूसरी कंपनियों में जाकर देख लें, हमारा फोकस केवल अपने कर्मचारियों पर ज्यादा होता है. जबकि जमशेदपुर में हमें कर्मचारियों के साथ ही समुदाय का काफी ख्याल रखना होता है.

नरेंद्रन ने कहा कि जमशेदपुर हमारा मदर प्लांट है, इसलिए इसके साथ इमोशनल कनेक्ट है. हम सड़कों पर, हेल्थ पर, पार्क या नागरिक सुविधाओं पर जो खर्च करते हैं, वह सीएसआर के इतर होता है. लोगों को लगता है कि टाटा स्टील ये सड़कें सीएसआर के तहत बना रही है. यह सच्चाई नहीं है. किसी शहर को चलाने के लिए कम्युनिटी को भी सहयोग करने की जरूरत है. आप हमारी एनुअल रिपोर्ट में देखेंगे, तो पायेंगे कि हमने शहर पर इस साल 400-500 करोड़ रुपये खर्च किये हैं. लेकिन हमारी भी एक सीमा है. हम पर भी स्टील बाजार में अपना अस्तित्व बनाये रखने का दबाव है. हमे भी दूसरी कंपनियों से कम्पीट करना होता है. लांग टर्म में सस्टेन करने के लिए हमें न केवल दूसरी कंपनियों से कम्पीट करना होगा, बल्कि अपने आप को प्रोफिटेबल भी बनाये रखना है. टाटा स्टील एक मल्टी जेनरेशनल कंपनी है. हमने पिछले कुछ सालों में अपनी उत्पादकता को काफी बढ़ाया है. इसमें कर्मचारियों के साथ ही यूनियन का काफी सपोर्ट रहा है. हमें क्वालिटी के साथ ही बेहतर सर्विस और प्रोफिटेबल भी बनना होता है.

इसे भी पढ़ें – रिश्वत मांगने के आरोप में सीबीआई ने रेलवे इंजीनियर को किया गिरफ्तार

Catalyst IAS
ram janam hospital

Related Articles

Back to top button