JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

BIG NEWS : देश को बिजली संकट से बचाने के लिए रेलवे ने कैंसल की 670 ट्रेनें

रद की गयी ट्रेनों में 500 से अधिक ट्रेनें लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें

New Delhi : देश में इस साल भीषण गर्मी पड़ रही है. इस कारण अप्रैल में ही बिजली की मांग (Power Demand) बहुत बढ़ गई है. बिजली की मांग बढ़ने से कोयले की खपत (Coal Consumption) भी बढ़ गई है. कोयले की इस बढ़ी हुई जरूरत को पूरा करने के लिए रेलवे पर इसकी ढुलाई का दबाव बढ़ गया है. इस कारण रेलवे को पिछले कुछ हफ्तों से रोजाना 16 मेल/एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों को रद्द करना पड़ रहा है. कोयले लदी मालगाड़ियों को रास्ता देने के लिए रेलवे को ऐसा करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें : Jamshedpur breaking : मिट्टी काटने पटमदा से धालभूमगढ़ गए व्यक्ति की मिट्टी के नीचे दबने से मौत

24 मई तक रद्द रहेंगी ट्रेनें

ram janam hospital
Catalyst IAS

वहीं रेलवे ने कोयला ढुलाई के मद्देनजर 24 मई तक 670 पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है. इनमें से 500 से अधिक ट्रेनें लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें (Mail Express Trains) हैं. रेलवे ने साथ ही कोयला लदी मालगाड़ियों (Coal Rakes) की औसत संख्या भी बढ़ा दी है. अब रोजाना 400 से ज्यादा ऐसी ट्रेनों को चलाया जा रहा है. यह पिछले पांच साल में ऐसी ट्रेनों से सबसे अधिक संख्या है.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर : निजी स्कूलों में फीस वृद्धि के खिलाफ जदयू ने उपायुक्त को सौंपा ज्ञापन

कोयले की ढुलाई के लिए रोजाना 415 मालगाड़ियां

सूत्रों के मुताबिक रेलवे ने कोयले की ढुलाई के लिए रोजाना 415 मालगाड़ियां मुहैया कराने का वादा किया है ताकि कोयले की मांग को पूरा किया जा सके. इनमें से हर मालगाड़ी करीब 3,500 टन कोयला ढोने में सक्षम है.
उन्होंने कहा कि पावर प्लांट्स में कोयले का भंडार बढ़ाने के लिए कम से कम और दो महीने तक यह व्यवस्था जारी रहेगी. इससे पावर प्लांट्स के पास पर्याप्त कोयला भंडार रहेगा और जुलाई-अगस्त में संकट को टाला जा सकेगा. जुलाई-अगस्त में बारिश के कारण कोयले के खनन सबसे कम होता है.

इसे भी पढ़ें : Cyber Crime : इनकी शातिर दिमागी का कोई जवाब नहीं, नहीं चेते तो फ‍िर हाथ मलते रह जायेंगे

पैसेंजर ट्रेनों के रद्द होने का हो रहा विरोध

रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘कई राज्यों में पैसेंजर ट्रेनों के रद्द होने का विरोध हो रहा है. लेकिन हमारे पास कोई विकल्प नहीं है. अभी हमारी प्राथमिकता यह है कि सभी पावर प्लांट्स के पास कोयले का पर्याप्त भंडार हो ताकि देश में बिजली का संकट पैदा न हो. हमारे लिए यह धर्मसंकट की स्थिति है.

हमें उम्मीद है कि हम इस स्थिति से बाहर निकल जाएंगे. अधिकारी ने कहा कि पावर प्लांट्स देशभर में फैले हैं, इसलिए रेलवे को लंबी दूरी की ट्रेनें चलानी पड़ रही है. बड़ी संख्या में कोयले से लदी मालगाड़ियां 3-4 दिन के लिए ट्रांजिट पर हैं. ईस्टर्न सेक्टर से बड़ी मात्रा में घरेलू कोयले को देश के दूसरे हिस्सों में भेजा जा रहा है.’

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक 2016-17 में रेलवे रोजाना कोयले की ढुलाई के लिए 269 मालगाड़ियां चला रहा था. 2017-18 और 2018-19 में इस संख्या में बढ़ोतरी हुई. पिछले साल रोजाना ऐसी 347 मालगाड़ियां चलाई गई और गुरुवार तक यह संख्या रोजाना 400 से 405 पहुंच गई. अधिकारियों का कहना है कि इस साल कोयले की मांग में अभूतपूर्व बढ़ोतरी हुई है और कोयले की ढुलाई के लिए रेलवे पसंदीदा जरिया बना हुआ है.

क्या कर रहा है रेलवे

देश में 70 फीसदी बिजली बनाने में कोयले का इस्तेमाल होता है. रेलवे ने भी कोयले की ढुलाई बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए हैं. लंबी दूरी की ट्रेनें चलाई जा रही हैं. सीनियर अधिकारी कोयला चढ़ाने और उतारने की प्रक्रिया पर करीबी नजर रख रहे हैं. वरिष्ठ अधिकारियों से कहा गया है कि अगर कोल रूट्स पर समस्या आती है तो इसे प्राथमिकता के आधार पर दुरुस्त किया जाना चाहिए.

Related Articles

Back to top button