Lead NewsNationalSportsTOP SLIDER

BIG NEWS : नीरज चोपड़ा ने गंदा एजेंडा चलाने वालों को दिया मुंहतोड़ जवाब, देखें VIDEO

New Delhi : टोक्यो ओलंपिक्स में जैवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल जीतने के बाद से नीरज चोपड़ा लगातार ख़बरों में बने हुए हैं. कभी कोई इन्हें बुलाकर सामूहिक नृत्यकला का प्रदर्शन कर रहा. तो कोई इंटरव्यू के नाम पर गर्लफ्रेंड्स की संख्या पूछ रहा.

इस बात को लेकर शुरू हुआ था विवाद

इसी क्रम में 25 अगस्त को नीरज का एक इंटरव्यू वायरल हुआ है. इसमें उन्होंने बताया था कि कैसे टोक्यो में अपने पहले थ्रो से पहले वो थोड़े परेशान हो गए थे. क्योंकि उन्हें अपना जैवलिन नहीं मिल रहा था.

advt

नीरज ने बताया कि बाद में उन्होंने देखा कि पाकिस्तानी जैवलिन थ्रोअर अरशद नदीम उनके जैवलिन से प्रैक्टिस कर रहे. फिर नीरज ने जैवलिन लिया और अंततः उसी जैवलिन से गोल्ड जीता.

इसे भी पढ़ें :कुख्यात नक्सली कुंदन पाहन की जमानत याचिका पर हुई आंशिक सुनवाई, अगली सुनवाई 20 सितंबर को

पाकिस्तानी खिलाड़ी अरशद को कोई चोर तो कोई आतंकवादी करार दे रहा है

इसके बाद लोगों ने अरशद को जाने क्या-क्या बता दिया. कोई उन्हें चोर तो कोई आतंकवादी करार दिए जा रहा था. नीरज के अच्छे दोस्त अरशद के पीछे सोशल मीडिया पर कई लोग पड़ गये थे.


ऐसे लोगों ने ट्विटर, फेसबुक से लेकर दो कौड़ी की वेबसाइट्स तक पर ऐसी गंध मचाई कि नीरज से रहा नहीं गया. उन्होंने खुद सामने आकर ऐसी टुच्ची हरकतें कर रहे लोगों को करारा जवाब दिया है. नीरज ने एक वीडियो ट्वीट कर अपना पक्ष रखा.

इसे भी पढ़ें :तमंचा डिस्कोः रात भर चलता रहा बार बालाओं का डांस, वीडियो वायरल

क्या कहा नीरज ने

सभी को नमस्कार. सबसे पहले तो सबका धन्यवाद करता हूं कि आप लोगों ने इतना सपोर्ट किया. इतनी दुआएं दीं, इतना प्यार दिया. काफी अच्छा लग रहा है. साथ में मैं बताना चाहूंगा कि मेरे एक हालिया इंटरव्यू से एक मुद्दा उठ रहा है. इस इंटरव्यू में मैंने कहा था कि टोक्यो के फाइनल में पहले थ्रो से पहले मैंने पाकिस्तानी जैवलिन थ्रोअर अरशद नदीम से अपना जैवलिन मांगा था.

इसे भी पढ़ें :उपेंद्र कुशवाहा ने बीजेपी पर उठाये सवाल, कहा- बीजेपी में अंदरूनी मतभेद, जातीय जनगणना से धर्म का कोई मतलब नहीं

बहुत सिंपल सी बात है

इसका काफी बड़ा मुद्दा बना दिया है. जबकि बहुत सिंपल सी बात है कि हम अपने पर्सनल जैवलिन एक जगह रखते हैं और सभी थ्रोअर उसको यूज कर सकते हैं. यही नियम है.

और इसमें कुछ गलत नहीं है कि अरशद मेरा जैवलिन लेकर तैयारी कर रहा था. और मैंने अपने थ्रो के लिए उसे मांगा. ये इतनी बड़ी बात नहीं है. मुझे काफी दुख है कि मेरा सहारा लेकर इस बात को इतना बड़ा मुद्दा बनाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :सैनिक हुकूमत का विरोध करने पर अहमद फराज हुए थे गिरफ्तार, 6 साल विदेश में रहना पड़ा

स्पोर्ट्स सभी को मिलकर चलना सिखाता है

मैं आप सभी से यही विनती करता हूं कि ऐसा ना करें. स्पोर्ट्स सभी को मिलकर चलना सिखाता है. हम सभी जैवलिन थ्रोअर आपस में प्यार से रहते हैं. सभी आपस में अच्छे से बात करते हैं. इसलिए आप कोई ऐसी बात ना कहें जिससे हमें ठेंस पहुंचे.’

इसे भी पढ़ें :महिलाओं को केंद्र में रखकर फिल्म बनाने वाले मधुर भंडारकर

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: