Lead NewsNationalTOP SLIDER

BIG NEWS : NIA में 11 साल काम कर सर्विस-मेडल से सम्मानित होनेवाले IPS अरविंद नेगी को एजेंसी ने ही किया गिरफ्तार

हिमाचल प्रदेश कैडर के अफससर पर लश्कर-ए-तैयबा को खुफिया जानकारी देने का आरोप

New Delhi : यह संभवत पहली बार होगा जब गैलेंट्री अवार्ड से सम्मानित किसी IPS अधिकारी को गिरफ्तार किया गया हो. खासकर यह तो जरूर पहला अवसर होगा जब नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी ने अपने यहां 11 साल तक काम कर चुके किसी आईपीएस अधिकारी को गिरफ्तार किया है. लश्कर-ए-तैयबा को खुफिया जानकारी लीक करने के मामले में नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने हिमाचल प्रदेश कैडर के आईपीएस अधिकारी (IPS officer) अरविंद दिग्विजय नेगी (Arvind Digvijay Negi) को गिरफ्तार किया है.

इसे भी पढ़ें :  BIG NEWS : जम्मू कश्मीर के शोपियां में एनकाउंटर; 1 आतंकी ढेर, 2 जवान हुए शहीद

हुर्रियत टेरर फंडिंग मामले में हुए थे सम्मानित

ram janam hospital
Catalyst IAS

नेगी को UAPA के तहत गिरफ्तार किया गया है. नेगी पर लश्कर के आतंकी को खुफिया दस्तावेज देने का आरोप है. 2011 बैच के IPS अधिकारी को गैलेंट्री अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है. उन्हें हुर्रियत टेरर फंडिंग मामले (Hurriyat terror funding case) की जांच के बाद उन्हें सराहनीय सेवा के लिए पुलिस मेडल से नवाजा जा चुका है.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर : गोलमुरी में शादी का झांसा देकर युवती से बनाया संबंध, फ‍िर जबरन कराया गर्भपात

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में उनके आवास पर हुई थी छापेमारी

11 साल तीन महीने NIA में प्रतिनियुक्ति (deputation) में रहने के बाद नेगी को उनके कैडर में वापस भेज दिया गया था. नेगी NIA में सबसे लंबा कार्यकाल पूरा करने वाले अधिकारियों में शामिल हैं. भारतीय खुफिया एजेंसियों के खुफिया दस्तावेज लीक होने की जानकारी देने के बाद नवंबर में NIA ने हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में उनके आवास पर छापेमारी की थी.

इसे भी पढ़ें :  झारखंड में क्षेत्रीय भाषाओं की सूची से भोजपुरी-मगही आउट, RJD का विरोध- विवाद में ना फंसे सरकार

6 नवंबर 2021 को दर्ज हुआ था केस

इस मामले में NIA ने 6 नवंबर 2021 को केस दर्ज किया था. NIA इस मामले में पहले ही 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है. NIA के मुताबिक जांच में नेगी की भूमिका संदिग्ध पाई गई. इसके बाद उनकगे घर की तलाशी ली गई. जांच में सामने आया कि नेगी ने गुप्त दस्तावेज लश्कर के एक आतंकी तक पहुंचाए थे.

नेगी NIA की उस टीम का हिस्सा थे, जो फेक करेंसी (fake currency), आईएसआईएस (ISIS) के आतंकियों की भर्ती और जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों के आर्थिक पोषण के लिए नियंत्रण रेखा (LOC) की दूसरी तरफ व्यापार के संबंधित मामलों की जांच करती थी. नेगी उस NIA टीम का भी हिस्सा थे, जिसने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) के नेता वहीद पारा को गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें :  बांका में प्रेम प्रसंग में युवक की हत्या, शव को कुएं में फेंका

Related Articles

Back to top button