Court NewsLead NewsNationalTOP SLIDER

BIG NEWS : सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार ने कहा, ‘जिन राज्यों में हिंदुओं की संख्या कम है, वहां दिया जा सकता है अल्पसंख्यक का दर्जा

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट में नरेंद्र मोदी सरकार ने एक मामले में सुनवाई के दौरान कहा है कि जिन राज्यों में हिंदू या अन्य समुदाय की जनसंख्या कम में हैं, उन्हें उन क्षेत्रों में अल्पसंख्यक समुदाय घोषित कर सकते हैं, ताकि वे अपने संस्थानों की स्थापना और उनका प्रशासन कर सकें.

महाराष्ट्र ने 2016 में यहूदियों  को दिया था दर्जा

सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि राज्य अपने क्षेत्रों के भीतर धार्मिक या भाषाई समूह को अल्पसंख्यक समुदाय के रूप में मान्यता दे सकते हैं, जैसा कि महाराष्ट्र ने साल 2016 में यहूदियों के मामले में किया था. इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि “राज्य अपने नियम एवं शर्तों के साथ संस्थानों को अल्पसंख्यक संस्थानों के रूप में प्रमाणित कर सकते हैं.”

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :12th Junior National Womens Hockey Championship: मणिपुर को हरा कर क्वार्टर फाइनल में पहुंची झारखंड की टीम

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

हिंदू इन राज्यों में हैं अल्पसंख्यक

सुप्रीम कोर्ट में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय की ओर से दायर एक हलफनामे में कहा कि भाजपा नेता और अधिवक्ता अश्विनी कुमार उपाध्याय ने एक जनहित याचिका में दावा किया है कि यहूदी, बहावाद और हिंदू धर्म के अनुयायी, जो लद्दाख, मिजोरम, लक्षद्वीप, कश्मीर, नागालैंड, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश में अल्पसंख्यक हैं. पंजाब और मणिपुर में भी उनका प्रशासन नहीं हैं, जिस वजह से उनके अपने संस्थान नहीं हैं.

इस विषय पर जवाब देते हुए केंद्र सरकार ने कहा कि “वे उन सभी राज्यों में अपनी पसंद के शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना और प्रशासन कर सकते हैं और राज्य स्तर पर अल्पसंख्यकों की पहचान के लिए दिशानिर्देश निर्धारित करने के लिए संबंधित राज्य सरकारों द्वारा विचार किया जा सकता है.”

केंद्र सरकार ने आगे कहा कि अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय की स्थापना अल्पसंख्यकों के विकास के साथ उनके सामाजिक और आर्थिक स्थितियों में सुधार के लिए की गई है ताकि प्रत्येक नागरिक को राष्ट्र के निर्माण में सक्रिय रूप से भाग लेने का समान अवसर मिल सके.

इसे भी पढ़ें :गया में STF ने बरामद किया हथियारों का जखीरा,12 अपराधियों को पुलिस ने दबोचा

अकेले राज्य को इस विषय पर कानून बनाने की शक्ति नहीं दी जा सकती

इसके साथ ही केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि अकेले राज्यों को अल्पसंख्यकों के विषय पर कानून बनाने की शक्ति नहीं दी जा सकती क्योंकि यह संवैधानिक दायित्वों के विपरीत होगा और शीर्ष अदालत के दिये कई फैसलों के खिलाफ होगा.

केंद्र ने कहा, “संविधान के अनुच्छेद 246 के तहत राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम, 1992 को बनाया गया है. यदि यह विचार है कि अकेले राज्य के पास इस विषय पर कानून बनाने की शक्ति प्राप्त हो जाए तो तो संसद को उसकी शक्ति से वंचित कर दिया जाएगा, जो संवैधानिक व्यवस्था के खिलाफ होगा.’

केंद्र ने टीएमएपई और बाल पाटिल मामलों में सुप्रीम कोर्ट के दिये फैसलों का हवाला देते हुए कहा कि वे अल्पसंख्यक के रूप में एक समुदाय को अधिसूचित करने के लिए संसद और केंद्र सरकार की विधायी और कार्यकारी शक्तियों पर कानूनी प्रतिबंध नहीं लगाते हैं.

इसे भी पढ़ें :गोपालगंज में कार में मिले 3.50 करोड़ रुपए, सारी रात होती रही पैसों की गिनती

क्या कहा गया है याचिका में

दरअसल अधिवक्ता अश्विनी कुमार उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अपनी याचिका में केंद्र को राज्य स्तर पर अल्पसंख्यकों की पहचान के लिए दिशा-निर्देश देने का निर्देश देने की मांग करते हुए कहा कि 10 राज्यों में हिंदू अल्पसंख्यक हैं लेकिन वो केंद्र की ओर से अल्पसंख्यकों के लिए बनाई गई किसी भी योजनाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार रहेगी या नहीं, फैसला आज

 

Related Articles

Back to top button