Corona_UpdatesLead NewsNationalWorld

BIG NEWS : अमेरिका में FDA ने मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन के मिक्स  एंड मैच टीकाकरण को दी मंजूरी

कोरोना वैक्सीसन की कमी को पूरा करने में मदद करेगा FDA का यह कदम

New Delhi : अमेरिका में खाद्य एवं औषधि प्रशासन (US FDA) ने लोगों को बूस्टजर डोज (Booster Dose) के लिए मॉडर्ना (Moderna) जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) की वैक्सीन (Vaccine) के साथ ही अब तीनों कोरोना वैक्सीजन के मिक्स-एंड-मैच टीकाकरण को मंजूरी दे दी है. अमेरिका के FDA के इस कदम से कोरोना वैक्सी न की कमी को पूरा किया जा सकेगा.

क्या दिये गये हैं निर्देश

बता दें कि सरकार ने विशेषज्ञों की समिति से वैक्सीरन की ‘मिक्स एंड मैच’ पर एक अध्ययन को मंजूरी दी थी. इस अध्यमयन के बाद जो परिणाम सामने आए हैं, वह काफी चौंकाने वाले हैं.

advt

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एजेंसी ने बुधवार को मॉडर्न कोविड -19 वैक्सीन की एकल बूस्टर खुराक के उपयोग को प्राइमरी डोज के कम से कम 6 महीने के बाद 65 वर्ष उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए 18 से 64 वर्ष की आयु के कोविड के उच्च जोखिम वाले लोगों के लिए अधिकृत किया.

जॉनसन एंड जॉनसन बूस्टर खुराक के लिए, एफडीए ने 18 वर्ष उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों के लिए एकल-खुराक के पूरा होने के कम से कम 2 महीने बाद एकल बूस्टर खुराक के उपयोग को अधिकृत किया.

इसे भी पढ़ें : BIG NEWS : अफगानिस्तान में तालिबान ने जूनियर नेशनल वॉलीबॉल महिला खिलाड़ी का सिर किया कलम

एफडीए के अनुसार, उपलब्ध कोविड -19 टीकों में से किसी की एकल बूस्टर खुराक को एक अलग उपलब्ध कोविड -19 वैक्सीन के साथ प्राथमिक टीकाकरण के पूरा होने के बाद मिक्स एंड मैच बूस्टर खुराक के रूप में प्रशासित किया जा सकता है.

उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति जिसे जॉनसन एंड जॉनसन का टीका मिला है, वह बूस्टर के रूप में मॉडर्न या फाइजर-बायोएनटेक में से कोई एक टीका ले सकता है. एफडीए के कार्यवाहक आयुक्त जेनेट वुडकॉक ने एक बयान में कहा कि उपलब्ध आंकड़े कुछ आबादी में प्रतिरक्षा के कम होने का सुझाव देते हैं, जिन्हें पूरी तरह से टीका लगाया गया है. कोविड -19 बीमारी के खिलाफ निरंतर सुरक्षा के लिए इन अधिकृत बूस्टर की उपलब्धता महत्वपूर्ण है.

मॉडर्ना एंड जॉनसन एंड जॉनसन की कोविड -19 बूस्टर खुराक को अधिकृत करने की सिफारिश करने के लिए एफडीए सलाहकार समिति ने पिछले सप्ताह मतदान के बाद यह निर्णय लिया था.

इसे भी पढ़ें : राज्यसभा हॉर्स ट्रेडिंग मामलाः एसीबी की स्पेशल कोर्ट ने रांची पुलिस को दी फोरेंसिक जांच की अनुमति

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: