Corona_UpdatesJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

Big News : झारखंड में 18+ को वैक्सीन के लिये करना होगा इंतजार, मई के बाद ही वैक्सीनेशन संभव

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, कंपनियां फिलहाल वैक्सीन की आपूर्ति में असमर्थ

  • झारखंड के मरीजों के लिए 2000 रेमडेसिविर इंजेक्शन असम से लिया उधार

Ranchi: झारखंड में18-45 आयु वर्ग के लोगों को कोरोना वैक्सीन के लिये अभी इंतजार करना होगा. केंद्र सरकार ने इस आयु वर्ग के लिये एक मई से वैक्सीन देने की घोषणा की है, मगर झारखंड में यह संभव नहीं है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता का कहना है कि झारखंड में अभी वैक्सीन की सप्लाई करने से निर्माताओं ने इन्कार कर दिया है.

बन्ना गुप्ता के अनुसार कंपनियों के पास पहले से ही केंद्र सरकार का आर्डर है और उसे पूरा करने में मई के अंत तक का समय लग सकता है. इसके बाद ही वे लोग झारखंड में वैक्सीन की सप्लाई देने की सोचेंगे. इससे साफ है कि फिलहाल 18+ को वैक्सीन मिलने की उम्मीद नहीं है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार कह रही है कि हमारे पास संसाधनों की कमी नहीं है. 21 अप्रैल से 30 अप्रैल तक के लिए 30,000 रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन किया गया, लेकिन यह कहां है किसी को पता नहीं. असम से 2000 रेमडेसिविर इंजेक्शन हमें उधार लेना पड़ा है ताकि मरीजों को उपलब्ध कराया जा सके.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

50 लाख वैक्सीन का आर्डर

उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार की ओर से वैक्सीन की दोनों कंपनियों को 25-25 लाख वैक्सीन का ऑर्डर दे दिया है. जिसका खर्च काफी आएगा. साथ ही उन्होंने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि जब बजट में इसके लिए राशि का प्रावधान किया गया तो वैक्सीन तो सभी को मुफ्त में दी जानी चाहिए थी. फिर भी सरकार ने इसके लिए टैरिफ तय कर दिया है। टैरिफ भी अलग-अलग कंपनियों के लिए अलग है.

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने ये भी कहा

  • 18 साल से ऊपर और 44 साल तक के लोगों को फ्री में टीकाकरण करने की तैयारी, 2229 से ज्यादा टीकाकरण केंद्र तैयार
  • केंद्रीय  मंत्री से किया है निवेदन , हमें जल्द वैक्सीन उपलब्ध कराए हम पैसा भुगतान करने को तैया
  • आपदा में अवसर ढूंढ कर पैसे कमा रही है केंद्र सरका
  • एक देश, एक विधान और एक संविधान का नारा देने वाली भाजपा सरकार ने जीवन रक्षक वैक्सीन को पैसों के लिए तीन कैटेगरी में बांटा
  • रोकथाम और इलाज का अभी एकमात्र विकल्प वैक्सीनेशन ही है फिर भी की जा रही राजनीति

 

Related Articles

Back to top button