Lead NewsNationalWorld

US में सिख नौसैनिक के लिए पक्ष में बड़ा फैसला, 246 साल बाद पगड़ी पहनने की इजाजत

लंबे समय पगड़ी पहनने की अनुमति को लेकर कर रहे थे संघर्ष सुखबीर तूर

New Delhi : अमेरिका के इतिहास में सिख नौसैनिक के लिए एक बड़ा फैसला लिया गया है. नौसेना में शामिल एक 26 वर्षीय सिख-अमेरिकी नौसैनिक अधिकारी को कुछ सीमाओं के साथ पगड़ी पहनने की इजाजत दी गई है. सुखबीर तूर नामक यह सिख व्यक्ति इस प्रतिष्ठित बल के 246 साल के इतिहास में ऐसा करने की अनुमति पाने वाला वह पहला व्यक्ति है.

द न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के अनुसार, ‘लगभग पांच साल से हर सुबह लेफ्टिनेंट सुखबीर तूर अमेरिकी नौसैनिक कोर की वर्दी धारण करते आए हैं. गुरुवार को सिर पर सिख पगड़ी पहनने की उनकी तमन्ना भी पूरी हो गई. तूर ने इस अधिकार को प्राप्त करने के लिये संघर्ष किया है.

इस साल जब वह पदोन्नति पाकर कैप्टन बने तो उन्होंने अपील का फैसला किया. खबर के अनुसार यह इतने लंबे समय तक चला केस इस तरह का पहला मामला था.

advt

इसे भी पढ़ें:अफगानिस्तान में तालिबान ने दिखाया अपना रंग, नाइयों को सुनाया नया फरमान, दाढ़ी शेव की तो…

क्या कहा लेफ्टिनेंट तूर ने

26 वर्षीय लेफ्टिनेंट तूर ने एक साक्षात्कार में कहा, “आखिरकार मुझे यह चुनने की ज़रूरत नहीं है कि मैं किस जीवन के लिए प्रतिबद्ध होना चाहता हूं, मेरा विश्वास या मेरा देश. “मैं वह हो सकता हूं जो मैं हूं. मैं दोनों पक्षों का सम्मान करता हूं.

इसे भी पढ़ें:मनरेगा: 51.32 करोड़ की वित्तीय हेराफेरी, रिकवरी का आदेश भी बेअसर, दो फीसदी से भी कम वसूली

वाशिंगटन ओहायो में पले-बढ़े हैं तूर

उनका मामला संयुक्त राज्य की सेना में दो मौलिक मूल्यों के बीच लंबे समय से चल रहे संघर्ष में सबसे नया है. अनुशासन एकरूपता की परंपरा संवैधानिक स्वतंत्रता की रक्षा के लिए सशस्त्र बलों को बनाया गया था, जबकि ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया कनाडा में सिख सैनिकों ने लंबे समय से वर्दी में पगड़ी पहनती रही है. सिख अब सेना की अन्य शाखाओं में भी ऐसा करते हैं.

मरीन कॉर्प्स के 246 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है लेफ्टिनेंट तूर पगड़ी पहनेंगे. वाशिंगटन ओहायो में पले-बढ़े भारतीय प्रवासी के बेटे तूर को कुछ सीमाओं के साथ ड्यूटी पर पगड़ी पहनने की अनुमति मिली है.

इसे भी पढ़ें:प. सिंहभूम में पुलिस और पीएलएफआइ के बीच मुठभेड़, कैंप ध्वस्त, हथियार बरामद

संघर्ष क्षेत्र में तैनाती के दौरान इजाजत नहीं

लेफ्टिनेंट तूर सामान्य ड्यूटी स्टेशनों पर प्रतिदिन पोशाक में पगड़ी पहन सकता है. हालांकि उसे संघर्ष क्षेत्र में तैनाती के दौरान या औपचारिक यूनिट में पगड़ी पहनने की इजाजत नहीं होगी. लेफ्टिनेंट तूर ने मरीन कॉर्प्स कमांडेंट को प्रतिबंधात्मक निर्णय की अपील की है उनका कहना है कि अगर उन्हें पूर्ण आवास नहीं मिला तो वह कोर पर मुकदमा करेंगे.

“हम एक लंबा सफर तय कर चुके हैं, लेकिन अभी भी बहुत कुछ जाना बाकी है. वर्तमान में लगभग 100 सिख पूरी दाढ़ी पगड़ी पहनकर सेना वायु सेना में सेवा करते हैं.

इसे भी पढ़ें:IIM Ranchi : 10 सालों में नहीं मिली एक फूटी कौड़ी, अब 130 करोड़ का हिसाब मांग रही है सरकार

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: