न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भीमा-कोरेगांव हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने लगाई बंबई हाई कोर्ट के आदेश पर रोक

राज्य की पुलिस को और समय देने से इनकार कर दिया था.

19

Delhi : उच्चतम न्यायालय ने बंबई उच्च न्यायालय के उस आदेश पर रोक लगा दी जिसमें उसने कोरेगांव-भीमा हिंसा मामले में आरोप-पत्र दाखिल करने के लिए राज्य की पुलिस को और समय देने से इनकार कर दिया था.

इसे भी पढ़ें : भारत में खतरनाक प्रदूषक तत्व नाइट्रोजन ऑक्साइड के तीन सबसे बड़े हॉटस्पॉट : रिपोर्ट

हिंसा मामले में नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं के खिलाफ जांच रिपोर्ट दायर करने की खातिर पुलिस को और समय देने के निचली अदालत के आदेश को बंबई उच्च न्यायालय ने हाल में निरस्त कर दिया था.

इसे भी पढ़ें : दिल्ली का प्रदूषण स्तर भयावह, 15 साल पुराने पेट्रोल और 10 साल पुराने डीजल के वाहनों पर प्रतिबंध

 गिरफ्तार करने के मामले में दखल देने से इनकार

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने महाराष्ट्र सरकार की अपील पर गौर करते हुए उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दी और याचिका पर नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं को नोटिस जारी किया.

इससे पहले शीर्ष अदालत ने कोरेगांव-भीमा हिंसा मामले के सिलसिले में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने के मामले में दखल देने से इनकार कर दिया था और उनकी गिरफ्तारी की जांच के लिए एसआईटी गठित करने से भी इनकार कर दिया था.

palamu_12

इसे भी पढ़ें : दिल्ली HC ने CBI को अस्थाना के खिलाफ एक नवंबर तक यथास्थिति बनाए रखने का दिया आदेश

सम्मेलन के कारण ही कोरेगांव-भीमा में हिंसा

गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत पुणे पुलिस ने कथित माओवादी संपर्कों के चलते अधिवक्ता सुरेंद्र गाडलिंग, नागपुर विश्वविद्यालय में प्राध्यापक शोमा सेन, दलित कार्यकर्ता सुधीर धावले, कार्यकर्ता महेश राउत और केरल के निवासी रोना विल्सन को जून में गिरफ्तार किया था.

इसे भी पढ़ें : मालेगांव बम विस्फोट: पुरोहित के खिलाफ आरोप तय करने पर रोक लगाने से कोर्ट का इनकार

पिछले वर्ष 31 दिसंबर को पुणे में हुए एल्गार परिषद के सम्मेलन के सिलसिले में उनके आवासों और कार्यालयों पर छापे मारे गए थे. पुलिस का दावा है कि उक्त सम्मेलन के कारण ही अगले दिन कोरेगांव-भीमा में हिंसा हुई थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: