न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

BHEL, SAIL, HAL में Leave Encashment पर रोक की खबर, #BSNL काट रही है वेतन, आर्थिक मंदी का असर !

मंदी के कारण भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) में नकदी का प्रवाह बढ़ाने के लिए कर्मचारियों को भुगतान किये जाने वाले लीव एनकैशमेंट को स्थगित कर दिया है

959

NewDelhi : .  इकोनॉमिक्स टाइम्स के अनुसार मंदी के कारण भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) में नकदी का प्रवाह बढ़ाने के लिए कर्मचारियों को भुगतान किये जाने वाले लीव एनकैशमेंट को स्थगित कर दिया है.  रिपोर्ट के अनुसार स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड  ने पिछले 2-3 साल से लीव एनकैशमेंट पर रोक लगा रखी है.

जान लें कि आर्थिक मंदी का असर  सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों पर भी देखने को मिल रहा है.  देश के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में नकदी संकट का सामना करना पड़ रहा है. खबरों के अनुसार भेल ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि मैन्युफैक्टरिंग ऑपरेशंस चलाने के लिए उसे मौजूदा फंड का उपयुक्त तरीके से प्रयोग करना है.  बाजार में मांग घटने का असर इन कंपनियों के साथ ही अर्थव्यवस्था पर भी सीधा देखने को मिल रहा है.

इसे भी पढ़ें : कपिल सिब्बल ने # PMModi के बयान पर कसा तंज,  ट्रेलर देख लिया, बाकी फिल्म नहीं देखनी

भेल ने लीव इनकैशमेंट को मितव्ययिता के उपाय के तहत स्थगित किया

रिपोर्ट में भेल के प्रवक्ता गोपाल सुतार के हवाले से जानकारी दी गयी है कि  कंपनी ने लीव एनकैशमेंट को मितव्ययिता के उपाय के तहत स्थगित किया है.  यह सिर्फ उन कर्मचारियों का रोका गया है जो अभी सर्विस में हैं. रिपोर्ट के अनुसार रिटायर होने वाले कर्मचारियों को लीव एनकैशमेंट समेत पूरे वित्तीय लाभ का भुगतान किया जा रहा है.

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि निकट भविष्य में हमें स्थिति में सुधार होने की उम्मीद है.  नकदी संकट की स्थिति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एचएएल को अपने कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने के लिए बैंक से एडवांस लेने को विवश होना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें :  वित्त मंत्रीः टैक्स पेयर को राहत, छोटे डिफॉल्ट में नहीं चलेगा आपराधिक मुकदमा

बीएसएनएल लक्ष्य से चूकने पर अधिकारियों पर जुर्माना लगा रही है!

इस क्रम में बीएसएनएल ने भी लैंडलाइन और ब्रॉडबैंड लगाने के निर्धारित लक्ष्य से चूकने पर अधिकारियों पर जुर्माना लगाना शुरू कर दिया है.  यह जुर्माना सितंबर माह की सैलरी से काटा जायेगा. बीएसएनएल का कहना है यदि कर्मचारी अगले माह में अपना पिछला टार्गेट पूरा कर लेते हैं, तो उनके वेतन से की गयी कटौती वापस कर दी जायेगी.

रिपोर्ट के अनुसार कोल इंडिया की एक सहायक साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड कंपनी के बोर्ड ने वरिष्ठ अधिकारियों की अगस्त की सैलरी से 25 फीसदी तक की कटौती  पर भी विचार किया था,  हालांकि, इस प्रस्ताव को बाद में खारिज कर दिया गया.  कंपनी की  ऑडिट कमेटी की ओर  से यह सिफारिश जून में खत्म हुई तिमाही में कंपनी के खराब प्रदर्शन को देखते हुए पेश की गयी थी.

इसे भी पढ़ें :  PM के जन्मदिन पर BJP ने AIIMS से की सेवा सप्ताह की शुरुआत, बांटे फल, की सफाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like