JharkhandLead NewsRanchi

भारत बंद: भाजपा और झामुमो आमने सामने, BJP ने कहा- सुपर फ्लॉप, झामुमो का दावा- ऐतिहासिक

Ranchi : राज्य भर में गैर भाजपाई दल सोमवार को भारत बंद के दौरान सड़कों पर उतरे. झामुमो, कांग्रेस, राजद, वाम दल, आम आदमी पार्टी सहित अन्य संगठनों ने जगह-जगह अपनी ताकत दिखायी. एनएच जाम किया, रेल लाइन पर धरना देकर सेवाएं बाधित कीं. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों को काला कानून बता कर इसका विरोध किया. झामुमो ने इस बंद को ऐतिहासिक बताया. पार्टी प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि देश को कॉरपोरेट के हाथों बेचने में मोदी सरकार लगी है.

जो कॉरपोरेट का सूद का खाते हैं, केवल वही किसानों के इस भारत बंद से दूर रहे. वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि भारत बंद सुपर फ्लाप साबित हुआ है.

advt

इसे भी पढ़ें:प. सिंहभूम में पुलिस और पीएलएफआइ के बीच मुठभेड़, कैंप ध्वस्त, हथियार बरामद

कृषि कानून के जरिये देश को नीलाम करने की तैयारी: झामुमो

सुप्रियो भट्टाचार्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में सोमवार को कहा कि केंद्र सरकार देश को कॉरपोरेट के हाथों में बेचने को पूरी तरह तैयार है. कॉरपोरेट राज में देश को बदला जा रहा. धरती के नीचे के खजाने से लेकर खेतों और आसमान तक को अडानी अम्बानी के हाथों दिया जा रहा.

7 सालों से मन की बात सुनाने वाले एक बार भी किसानों की नहीं सुन रहे. अब तक 1100 किसान शहादत दे चुके हैं. 5000 रुपये भी केंद्र किसी किसान का माफ करने को तैयार नहीं होता पर एक-एक कॉरपोरेट घरानों का 5000-5000 करोड़ टैक्स माफ कर दिया जा रहा है.

139 करोड़ लोगों के इस देश क़ानून 39 पूंजीपतियों के हाथों बंधक बनाया जा रहा. कृषि कानून वास्तव में एक कानून नहीं, देश को नीलाम करने की तैयारी है.

इसे भी पढ़ें:मनरेगा: 51.32 करोड़ की वित्तीय हेराफेरी, रिकवरी का आदेश भी बेअसर, दो फीसदी से भी कम वसूली

12.5 करोड़ किसान मोदीजी के साथ: दीपक

दीपक प्रकाश ने सत्ताधारी दलों के भारत बंद समर्थन कार्यक्रम को पूरी तरह फेल कहा है. कहा कि किसानों के कंधे का सहारा लेकर कांग्रेस, झामुमो, राजद और अन्य दल अपनी राजनीति चमकाने में लगे हैं. किसानों को पता है कि नये कृषि कानूनों से उनका हित सधेगा. बिचौलिया राज को खत्म करेगा.

देश के 12 करोड़ से भी अधिक किसान पूरी तरह से मोदीजी के साथ हैं. सिवाय राजनीतिक दलों, संगठनों के किसी भी किसान, नौजवान, दुकानदारों ने बंद में भागीदारी नहीं की.

भाजपा किसान मोर्चा ने भी बंद को पूरी तरह से फेल कहा है. मोर्चा के मीडिया प्रवक्ता भैरव सिंह के मुताबिक कोई किसान अपने खेत खलिहान से बाहर आकर इस बंद में शामिल नहीं हुआ.

इसे भी पढ़ें:IIM Ranchi : 10 सालों में नहीं मिली एक फूटी कौड़ी, अब 130 करोड़ का हिसाब मांग रही है सरकार

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: