न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बुराड़ी कांडः क्या पहले से तय थी 11 लोगों की मौत की तारीख और समय ?

1,047

NewDelhi: दिल्ली के बुराड़ी के संतनगर में एक ही घर से 11 शव मिलने से लोग सकते में है. हर किसी के जहन में कई सवाल है. कोई इसे सामूहिक खुदकुशी मान रहा है, तो कोई हत्या. वही पुलिस की अबतक की जांच में जो बातें सामने आयी हैं, वो चौंकाने वाली है. पुलिस ने सामूहिक हत्या का केस दर्ज कर अपनी पड़ताल शुरु की. लेकिन अब पूरी जांच सामूहिक सुसाइड की ओर इशारा कर रही है. छानबीन में जो चीजें बरामद हुई हैं उनसे यह संकेत मिल रहा है कि इस सामूहिक खुदकुशीका टाइम व दिन तय था.

इसे भी पढ़ेंःदिल्ली : एक ही घर में 11 शव मिलने से इलाके में हड़कंप

11  मौत की मिस्ट्री सुलझाने में जुटी दिल्ली पुलिस की टीमों को कोई सुसाईड नोट तो नहीं मिला. लेकिन, जो हाथ लगा है वह बेहद चौंकाने वाला है. पुलिस सूत्रों की मानें तो जिस जाल से 10 लोगों के शव लटके हुए थे, उसी के बगल वाले कमरे में एक डायरी व एक मोटा रजिस्टर मिला है. जिसमें अलौकिक शक्तियां, मोक्ष के लिए मौत ही एक द्वार व आत्मा का अध्यात्म से रिश्ता जैसी अजीबो गरीब बातें लिखी हुई हैं.

क्या लिखा है डायरी में

घर से मिले डायरी में मोक्ष पाने के लिए मौत को रास्ता बताया गया है. डायरी में लिखा है कि मोक्ष प्राप्त करना है तो जीवन को त्यागना होगा. जीवन को त्यागने के लिए मौत को गले लगाना होगा. मौत को गले लगाने में कष्ट होगा. कष्ट से छुटकारा पाना है तो आंखें बंद करनी होंगी. पुलिस जांच में यह भी सामने आया कि डायरी में आखिरी बार 26 जून को लिखा गया था, जिसमें इस बात का जिक्र था कि अगर हमें 30 जून को परमात्मा से मिलना है तो हम सब हाथ पांव, मुंह पूरी तरह बांधेंगे ताकि किसी की सुन न सकें. रजिस्टर में यह भी लिखा गया है कि रात एक बजे के बाद यह साधना करनी है. इस साधना को करने से पहले नहाना नहीं है. केवल हाथ और मुंह धोकर बैठना होगा. लिखा है कि सभी को अपने-अपने हाथ-पैर खुद बांधने होंगे. हां, हाथ-पैर खोलने के लिए हम लोग एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं. रजिस्टर में यह भी लिखा गया है कि माताजी बहुत बुजुर्ग हैं. इसलिए वह साधना करने के लिए स्टूल पर नहीं चढ़ पाएंगी और ना ही बहुत अधिक देर तक उस पर खड़ी रह पाएंगी. ऐसे में उन्हें दूसरे कमरे में साधना करानी होगी. साधना के वक्त किसी के भी चेहरे पर तनाव या दुख नहीं झलकना चाहिए. इतना ही नहीं, रजिस्टर में इस बात का भी जिक्र है कि सभी को कौन-कौन सी चुन्नी और साड़ी इस्तेमाल करनी होगी. इसके साथ ही रजिस्टर में वटवृक्ष और बड़वृक्ष की पूजा करने जैसी बात भी लिखी गई है.

वही चौंकाने वाली बात तो यह कि घर के सारे मोबाइल और टैब मंदिर के पास एक पॉलिथीन में बंधे मिले. सभी साइलंट मोड पर थे. पुलिस को शक है कि रजिस्टर में जो लिखावट है वह ललित की लग रही है. साधना के लिए भाई ललित और भूपी ने मुख्य योजना बनाई थी. बाद में पूरे परिवार को शामिल कर लिया गया था. फिलहाल पुलिस ने रजिस्टर और डायरी को सीज कर लिया है.

घर से किसी तरह के सामान की चोरी भी नहीं हुई है.  पुलिस ने घर की तलाशी के बाद बताया कि इस घर में न तो तोड़फोड़ की गई है, न कोई कीमती चीजें गायब हुई हैं. यहां तक कि महिलाओं के शव पर जूलरी भी वैसे ही पड़ी हुई मिली. ऐसे में पुलिस फिलहाल इसी थ्योरी को मान रही है कि जादू-टोना, अंधविश्वास में पूरे परिवार ने खुदकुशी की है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

SMILE

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: