न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड के आरोपी भाजोहरी मुंडा को NIA ने रायपुर से किया गिरफ्तार

85

Ranchi : तमाड़ के पूर्व विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या के मामले में आरोपी भाजोहरी सिंह मुंडा को एनआईए ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया. भाजोहरी सिंह मुंडा खूंटी जिला के अड़की थाना क्षेत्र का रहनेवाला है. एनआईए ने उसे रायपुर से गिरफ्तार किया है. भजोहरी सिंह मुंडा काफी लंबे समय से फरार था. गौरतलब है कि एनआईए ने रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड में 31 मार्च 2018 को चार्जशीट दायर की थी.

हत्या के लिए मिले तीन करोड़  रुपये में से 2.78 करोड़ रुपये कुंदन ने भाजोहरी को दिये थे

एनआईए के मुताबिक, जांच में पता चला था कि पूर्व विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या करने के लिए आरोपी राजा पीटर से मुख्य आरोपी नक्सली कुंदन पाहन को आठ जुलाई 2008 को एडवांस के तौर पर तीन करोड़ रुपये मिले थे. इन तीन करोड़ रुपये में से कुंदन पाहन ने तब अपने साथी रहे भाजोहरी सिंह मुंडा को दो करोड़ 78 लाख रुपये सौंप दिये थे. भाजोहरी सिंह मुंडा को यह राशि झारखंड में नक्सली गतिविधियों को आगे बढ़ाने में इस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित रखने के लिए दी गयी थी. इस हत्याकांड की डील कुल पांच करोड़ रुपये में हुई थी. तीन करोड़ रुपये पहले ही एडवांस के रूप में मिल चुके थे, जबकि शेष दो करोड़ रुपये रमेश सिंह मुंडा की हत्या के बाद 11 जुलाई 2008 को आरोपी राजा पीटर के स्टाफ ने कांड के अन्य आरोपी बलराम साहू को दिये थे.

नौ जुलाई 2008 को एक समारोह में हुई थी हत्या

तमाड़ के तत्कालीन विधायक रमेश सिंह मुंडा बुंडू के एसएस हाई स्कूल में नौ जुलाई 2008 को एक समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित थे. समारोह में छात्रों को सम्मानित करने और पुरस्कार देने के बाद वह संबोधित कर रहे थे. उसी समय कुंदन पाहन दस्ते के नक्सलियों ने स्कूल में आकर फायरिंग शुरू कर दी. इसमें रमेश सिंह मुंडा, उनके दो सरकारी बॉडीगार्ड शिवनाथ मिंज और खुर्शीद आलम सहित एक छात्र रामधन पातर की मौत हो गयी थी. इस मामले में बुंडू थाना में मामला दर्ज किया गया था.

हत्याकांड में पूर्व मंत्री राजा पीटर का नाम आया था सामने

रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड की एनआईए ने जांच की. नक्सली कुंदन पाहन के सरेंडर करने के बाद उससे पूछताछ के दौरान इसमें राज्य के पूर्व मंत्री राजा पीटर का नाम सामने आया था. कहा गया कि राजा पीटर ही मामले के साजिशकर्ता थे. उन्होंने ही नक्सलियों को रमेश सिंह मुंडा की हत्या करने के लिए हथियार और पैसे उपलब्ध कराये थे. इसके बाद एनआईए ने राजा पीटर को गिरफ्तार किया था. बता दें कि रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड में पूर्व मंत्री राजा पीटर, कुख्यात नक्सली कुंदन पाहन, बलराम साहू, रमेश सिंह मुंडा का अंगरक्षक रहे शेषनाथ सिंह होटवार स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा में बंद हैं. इसके अलावा राम मोहन सिंह मुंडा और संतोष वर्मा भी जेल में बंद हैं. इन्हें एनआईए की टीम ने सरकारी गवाह बनाया है.

इसे भी पढ़ें- बिजली व्यवस्था चरमरायी, राजधानी सहित सभी जिलों में दो-तीन घंटे पावर कट

इसे भी पढ़ें- आरोप : ढुल्लू महतो के गुर्गों ने दुष्‍कर्म करने की कोशिश की, विरोध किया तो जम कर पीटा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: