न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बेरमोः कोयला खदान में चाल धंसने से दो की मौत, 10 के दबे होने की आशंका

कोयले का अवैध कारोबार करनेवालों ने ग्रामीणों के साथ मिल कर शवों को निकाला

153

Bermo: बोकारो जिला के उग्रवाद प्रभावित ऊपरघाट स्थित पेंक नारायणपुर थाना अंतर्गत पलामू पंचायत के रसबेड़वा जंगल में कोयला की अवैध सुरंग में चाल धंसने से 10 मजदूरों के दबने की सूचना है. घटना के बाद सुरंग से दो का शव कोयला के अवैध कारोबारियों तथा ग्रामीणों ने आनन-फानन में निकाला और लेकर भाग गये. घटना रविवार रात्रि की बतायी जाती है. मंगलवार को घटना प्रकाश में आने के बाद पुलिस एवं अन्य ग्रामीण हरकत में आये. ग्रामीणों के अनुसार रविवार की रात रसबेड़वा जंगल में बनी कोयला की अवैध सुरंग में कोयला काटने के लिए 20-25 मजदूर गये थे. कोयला काटने के दौरान रात लगभग ग्यारह बजे अचानक कोयला की चाल धंस गयी, जिसमें 12 कोयला काटने वाले मजदूर दब गए, जबकि बाकी मजदूर किसी तरह निकल पाने में कामयाब रहे. इसकी सूचना मिलने के बाद आनन-फानन में अवैध कोयले के कारोबारी दो मजदूरों का शव निकाल ले गये. बाकी दस मजदूर अब भी खदान में दबे हुए हैं.

सुरंग का मुंह बंद किया

कोयला के धंधेबाजों ने पुलिस द्वारा शवों को सुरंग से निकाले जाने तथा मुकदमा दर्ज होने के डर से कोयला सुरंग के मुहाने को बंद कर दिया है. बताया जाता है कि सभी दबने वाले मजदूर तुपकाडीह और चलकरी के रहने वाले हैं. इस संबंध में पुलिस को जब सूचना मिली तो पुलिस हरकत में आयी और घटनास्थल पर पहुंच कर मामले की जांच की. पुलिस घटना को लेकर कुछ भी बताने से इंकार कर रही है. गांधीनगर थाना प्रभारी आरबी सिंह ने घटना के बारे में कहा कि मामला उनके थाना क्षेत्र का नहीं है. बेरमो सर्किल इंस्पेक्टर लक्ष्मीकांत का कहना है कि घटना के बारे में जानकारी नहीं है. इस प्रकार की घटना घटी है तो मामले में कार्रवाई की जायेगी.

hosp3

कोयला ढोने में व्यस्त थे कारोबारी

एक ओर पुलिस घटनास्थल पर दबे ग्रामीणों की जांच करने में जुटी थी तो दूसरी ओर कोयला के कारोबारी बाइक से कोयला को ढोने में व्यस्त थे. बोकारो थर्मल थाना अंतर्गत लुकूबाद, अरमो, नयीबस्ती, गोविंदपुर, गांधीनगर के सोता पानी, पेंक नारायणपुर के पिलपिलो, पलामू आदि स्थानों पर कोयला का अवैध उत्खनन किया जा रहा है. कोयला को बाइक के द्वारा विभिन्न स्थानों पर ले जाया जाता है.

इसे भी पढ़ें – किसानों से 1750 रुपये प्रति क्विंटल धान खरीदेगी सरकार, बोनस मिलने की भी संभावना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: