BokaroJharkhand

Bermo: उद्घाटन के 5 माह बाद आमलोगों के लिए खोला गया 134 करोड़ में बना DVC का ढाई KM लंबा फ्लाइओवर

Bermo : बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल में उद्घाटन के पांच माह बाद शुक्रवार को 134 करोड़ की लागत से बने ढ़ाई किलोमीटर लंबे फ्लाइओवर के एक पार्ट को आमलोगों के लिए खोल दिया गया. इसके पूर्व फ्लाइओवर का शुक्रवार को दुबारा उदघाटन डीवीसी के स्थानीय प्रोजेक्ट हेड सुप्रीयो गुप्ता, सीई टी अकबर, पूर्व प्रोजेक्ट हेड कमलेश कुमार एवं डिप्टी चीफ सिविल अरुण कुमार ने किया.

इसके पूर्व 26 जनवरी को तत्कालीन एचओपी कमलेश कुमार ने फ्लाइओवर का उदघाटन किया था. मौके पर प्रोजेक्ट हेड ने उदघाटन के पांच माह बाद आमलोगों के लिए फ्लाइओवर को खोले जाने के सवाल पर कहा कि फ्लाइओवर को उद्घाटन के बाद कई प्रकार की औपचारिकतायें पूरी करने में समय लगने के कारण ही विलंब हुआ है. कहा कि फ्लाइओवर के निर्माण का कार्य जल्द ही पूरा कर लिया जायेगा. रेलवे के हाजीपुर जोन में डिजाइन को लेकर मामला लंबित है. रेलवे से डिजाइन स्वीकृत हो जाने के बाद काम को जल्द ही पूरा कर लिया जायेगा.

मौके पर डीजीएम एपी सिंह, अपर निदेशक नीरज सिन्हा, डिप्टी चीफ वीएन शर्मा, सुनील प्रसाद सहित राइटस एवं डेको बीकेबी कंपनी के कई अधिकारी मौजूद थे.

advt

इसे भी पढ़ें – झारखंड BJP की नयी टीम की घोषणा, सांसद सुनील सिंह और अन्नपूर्णा देवी समेत 8 उपाध्यक्ष

134 करोड़ की लागत से हो रहा निर्माण कार्य

डीवीसी द्वारा 134 करोड़ की लागत से ओवरब्रिज के निर्माण का कार्य राइटस कंपनी को दिया गया था. कंपनी ने यह काम सुप्रीम बीकेबी एंड डेको के संयुक्त उपक्रम की कंपनी को निर्माण के लिए दे दिया था. फरवरी 2015 में आरंभ हुए निर्माण कार्य को 36 माह में पूरा करना था. परंतु 64 माह बाद भी यह निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है.

इतिहास हो जायेगा पुराना ओवरब्रिज

शुक्रवार को आमलोगों के लिए फ्लाइओवर को खोल दिये जाने के बाद 1952 ईस्वी में बना पुराना ब्रिज इतिहास हो जायेगा. 1952 में पुराने ब्रिज का निर्माण कोलकाता की जेसाप एंड कंपनी ने किया था. हाल के महीनों में रखरखाव के अभाव एवं नये फ्लाइ ओवर का निर्माण के कारण यह काफी जर्जर हो गया था. पुल के ऊपर काफी बड़े-बड़े गड्ढे बन गये थे, जिसमें बारिश होने के बाद पानी का जमाव हो जाने से दुघर्टना की संभावना बनी रहती थी.

इसे भी पढ़ें – Corona: 3 जुलाई को कुल 63 नये पॉजिटिव केस मिले, झारखंड का आंकड़ा 2697 हुआ

adv

बंद हो जायेगा पुराना मार्ग

डीवीसी द्वारा शुक्रवार को आमलोगों के लिए खोल दिये गये फ्लाइओवर के बाद ए पावर प्लांट के बगल के रास्ते से वर्तमान कथारा जाने वाले पुराने मार्ग को बंद कर दिया जायेगा. पावर प्लांट होकर कथारा जानेवाले मार्ग को बंद नहीं किये जाने के कारण 500 मेगावाट के ए पावर प्लांट का कई निर्माण कार्य अब भी पूरा नहीं हो पाया है.

कथारा पुल के बोरिया बस्ती साइड से बनने वाले ओवरब्रिज को स्थानीय रेलवे गेट के समीप से तीन अलग-अलग रास्तों में विभक्त किया गया है. कथारा बोरिया बस्ती से आने वाले मार्ग को डीवीसी जमा दो उच्च विद्यालय के समीप मेन रोड में कनेक्ट किया जायेगा.

उपरोक्त मार्ग आम लोगों की आवाजाही के लिए होगा.जबकि रेलवे गेट के समीप से ही दो अलग-अलग रास्तों को ओवरब्रिज के द्वारा पावर प्लांट में सीएचपी के समीप उतारा जायेगा. एक मार्ग से कोयला, छाई व मैटेरियल के वाहनों तथा भारी वाहनों की आवाजाही होगी. जबकि दूसरे मार्ग से डीवीसी कर्मी डयूटी के लिए आवाजाही करेंगे.

इसे भी पढ़ें – सांसद से ग्रामीण- सड़क खराब है, निशिकांत दुबे का जवाब- CM-MLA के पास जाओ

advt
Advertisement

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button