BokaroKhas-Khabar

बेरमोः कोरोना से अधिक रेलवे साइडिंग की चर्चा, रिजेक्ट कोयले में चारकोल मिलाने की शिकायत पर रेड

Ranchi: कोरोना संकट के बीच बेरमो का रेलवे साइडिंग आजकल काफी चर्चा में है. पुलिस को लगातार जानकारी मिल रही थी कि यहां जमा किये रिजेक्ट कोयले में गिरिडीह से चारकोल मंगा कर मिलाया जा रहा है. लगातार सूचना मिलने के बाद बोकारो पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ी.

रेलवे स्टेशन के कोल साइडिंग पर दो बार पुलिस को जाना पड़ा. बेरमो और गांधीनगर थाना पुलिस ने मिलकर एक संयुक्त अभियान चलाया और साइडिंग पहुंच कर जांच की. साइडिंग पर 26 अप्रैल की रात करीब आठ बजे से पुलिस का जमावड़ा लगने लगा. बताया जा रहा है कि बोकारो एसपी के आदेश के बाद पुलिस को यह कार्रवाई करनी पड़ी.

27 अप्रैल को भी रेलवे साइडिंग पहुंचकर पुलिस ने बेरमो कोल साइडिंग की वीडियो रिकॉर्डिंग करायी. इस साइडिंग में मगध, आम्रपाली, कथारा और बीएण्डके और दूसरे कई क्षेत्रों से कोयला आता है. बताया जा रहा है कि 19 अप्रैल को एक रैक बेरमो स्टेशन से निकला था.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंः#FightAgainstCorona: रांची पुलिस के सख्त आदेश के बाद राजधानी के सारे बॉर्डर सील

दिव्या कंस्ट्रक्शन का है कोयला, धर्मेंद्र उर्फ भोला सिंह है मालिक

जिस कोयले में चारकोल मिलाने की शिकायत पुलिस को मिली थी, वो कोयला दिव्या कंस्ट्रक्शन के मालिक धर्मेंद्र उर्फ भोला सिंह का है. कंपनी के मालिक धर्मेंद्र सिंह को पुलिस की तरफ से 24 घंटे में सारे कागजात सौंपने को कहा गया है.

शिकायत के बाद कार्रवाई करती पुलिस

बता दें बेरमो स्टेशन से रैक लोड होकर देश के तमाम पावर स्टेशनों में जाता है. यहां जमा कोयले में चारकोल मिलाने से कोयले की मात्रा बढ़ जाती है. लेकिन उसकी गुणवत्ता घट जाती है. ऐसा करने से ज्यादा कोयले की ढुलाई होती है और ढुलाई से जुड़े कारोबारियों को ज्यादा फायदा होता है. पुलिस को जांच के दौरान वहां लूज कोल 3063.87 एमटी और चारकोल 389.40 एमटी का स्टॉक मिला है. पुलिस ने फिलहाल सारे स्टॉक को जब्त कर लिया है.

इसे भी पढ़ेंः#UP: बीजेपी विधायक का भड़काऊ बयानः कहा- ‘मुसलमानों से ना खरीदें सब्जी’, वीडियो वायरल

पुलिस को लगातार मिल रही थी शिकायतः एसपी बोकारो

मामले पर न्यूजविंग से बात करते हुए बोकारो एसपी चंदन झा ने कहा कि पुलिस को यह सूचना मिली थी कि बेरमो स्टेशन के कोल स्टॉक में अवैध तरीके से रिजेक्ट कोयले में चारकोल को मिक्स कर रखा गया है. इसी बात को जानने के लिए पुलिस की टीम वहां गयी थी.

पुलिस के अलावा अब माइनिंग अधिकारियों की भी मदद ली जानी होगी. जिसका भी यह कोयला होगा उसे नोटिस दिया जा रहा है. वो बताएंगे कि कोयला किस किस्म का था. जो सैंपल वहां से लिया गया था उसकी भी रिपोर्ट नहीं आयी है. रिपोर्ट आने के बाद जैसा होगा कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः#LockDown का असर :  कर्नाटक में खजाना खाली होने के आसार, आबकारी विभाग के पास सैलरी देने तक के पैसे नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button