ELECTION SPECIALLead NewsNationalTOP SLIDER

बंगाल चुनाव  भाजपा नेता शुभेंदु बोले, घुसपैठियों की मौसी और रोहिंग्याओं की चाची हैं ममता बनर्जी

चुनावी रैली में मुख्यमंत्री ममता को लिया निशाने पर

Kolkata : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव को लेकर चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी हैं. भाजपा और टीएमसी एक दूसरे को निशाना पर ले रहे हैं. इसी बीच भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर बड़ा हमला बोला है. शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) ने कहा कि ममता बनर्जी बंगाल की बेटी नहीं, बल्कि घुसपैठियों की मौसी और रोहिंग्याओं (Rohingyas) की चाची हैं.

आपको बता दें कि शुभेंदु अधिकारी अभी कुछ दिनों पहले ही भाजपा (BJP) में शामिल हुए हैं. शुभेंदु ने रविवार को एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए यह बयान दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुबातिक, शुभेंदु ने कहा कि ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस अब एक राजनीतिक पार्टी नहीं है. यह एक निजी लिमिटेड कंपनी है और कंपनी की अध्यक्ष का नाम ममता बनर्जी है. वहीं, प्रबंध निदेशक उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी हैं.

इसे भी पढ़ें :आज बाधित रह सकती है रिम्स में स्वास्थ्य सेवा, आंदोलन करेंगे डॉक्टर्स

ममता 50 हजार मतों से हारेंगी या मैं राजनीति छोड़ दूंगा

बंगाल चुनाव में मिदनापुर जिले की नंदीग्राम विधानसभा सीट अब बेहद अहम हो गई है. ये सीट हाल ही में टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी के पाले में रही है. शुभेंदु ममता सरकार में ट्रांसपोर्ट मंत्री भी रह चुके हैं. ममता बनर्जी के यहां से ऐलान करने के बाद शुभेंदु ने कहा था कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री यहां से 50 हजार मतों से हारेंगी या वे राजनीति छोड़ देंगे.

इसे भी पढ़ें :दुश्मन पड़ोसी को गालियां देने के लिए पिता ने साहिर का नाम रखा था अब्दुल हई 

भूमि अधिग्रहण आंदोलन में शुभेंदु का रहा है अहम रोल

बताया जाता है कि ममता को बंगाल की सत्ता दिलाने में नंदीग्राम का अहम रोल है. लेकिन यहां हुए भूमि अधिग्रहण आंदोलन में शुभेंदु अधिकारी ने बड़ी भूमिका निभाई थी. बीजेपी में शामिल होने के बाद हो सकता है कि अधिकारी नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ेंगे. हालांकि, तमाम तथ्यों के अलावा सीएम ममता की पारंपरिक भवानीपुर सीट पर भी बीजेपी की नजरें हैं. भगवा दल के कई दिग्गज यहां अपनी मौजूदगी दर्ज करा चुके हैं.

इसे भी पढ़ें :अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस: 100 में 78 महिलाएं सार्वजनिक स्‍थानों पर छेड़छाड़ की होती हैं शिकार

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: