DhanbadJharkhand

भीख मांग कर गुजर-बसर करने वाले परिवार पूरी तरह से #LockDown21 कर रहे पालन 

Ranjit Kumar Singh

Dhanbad: भीख मांग कर गुजर-बसर करने वाले लोग लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं. लॉकडाउन के बाद उत्पन्न हुए हालात का जायजा लेने के लिए न्यूज विंग की टीम झरिया के न्यू विलेज की कोढ़िया पहुंची तो भीख मांगकर गुजर-बसर करने वालों का हौसला देखकर दंग रह गयी.

इस बस्ती में भीख मांगकर गुजर-बसर करने वाले लोग इन दिनों दुकानों पर भीड़ नहीं बढ़ा रहे, बल्कि अपने घरों में ही इस दिन के खत्म हो जाने और अच्छे दिन के आने की कामना कर रहे हैं.

advt

इसे भी पढ़ें- #CoronaUpdate: सॉफ्टवेयर इंजीनियर को बेंगलुरु पुलिस ने किया गिरफ्तार, फेसबुक पर कोरोना वायरस को लेकर किया था अनुचित पोस्ट

नहीं खरीद पा रहे आवश्यक सामान 

हमने इस संबंध में यहां के दिव्यांगों और भीख मांगकर गुजर-बसर करने वाले लोगों से बातचीत की. उन्होंने बताया कि अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए वर्षों से दुकानों और घरों में भीख मांगा करते थे लेकिन इस बीच ऐसा कभी नहीं हुआ था कि भीख मांग कर अपने परिवार के लिए कुछ पैसे घर न लेकर आ सकूं.

वर्षों बाद न जाने ये कौन सी बीमारी आ गयी है कि लोगों ने अपनी दुकानें बंद कर दी है. सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है. लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं. अब ऐसे में दिव्यांगों का कहना है कि इस बंदी में हमें कौन पैसे देगा.

adv

भीख नहीं मिलने से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है. अगर भीख के पैसे मिलते तो घर के लिए साग, सब्जी, दाल, साबुन खरीदता लेकिन पैसे नहीं हैं तो ये खाद्य सामग्री नहीं खरीद पा रहा हूंं.

इसे भी पढ़ें- देश में बढ़ रहा #CoronaVirus का खौफ, 834 केस, 19 की मौत

मांड़-भात खाकर किसी तरह काट लेंगे समय

उन्होंने बताया कि जब तक ये बीमारी रहेगी, हमलोग भीख नहीं मांगने निकलेंगे. अपने पूरे परिवार के साथ घर पर ही माड़-भात खा कर रह लेंगे. मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के दहशत को देखते जनता कर्फ्यू के नाम पर 22 मार्च को पहली लॉकडाउन की थी जो पूरी तरह से सफल रही.

इसके बाद कुछ राज्यों में कोरोना वायरस के दहशत को देखते हुए लॉकडाउन किया गया था, जिसमें झारखंड भी शामिल था. लेकिन कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रधानमंत्री ने दोबारा जनता को संबोधित किया और 24 मार्च की रात 12 बजे से पूरे देश में संपूर्ण रूप से 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर दी.

इसके बाद खाद्य सामग्री की खरीदारी के लिए आमलोगों की भीड़ दुकानों में लगने लगी. इस भीड़ में भी इस बस्ती के लोगों ने हिस्सा नहीं लिया. उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा चावल और नमक दिया जा रहा है. वे लोग किसी तरह चावल और नमक के सहारे किसी तरह यह समय भी काट लेंगे.

इसे भी पढ़ें- #CoronaVirus की कैद में दुनियाः अमेरिका में एक लाख से ज्यादा लोग पीड़ित, इटली में एक दिन में एक हजार मौतें

न्यूज विंग की अपील

देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button