न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नगर निगम में भवन निर्माण से पहले जमीन के दस्तावेजों की जांच पर ऊपरी खर्च दो रुपये प्रति वर्ग फीट

हाल राजधानी के रांची नगर निगम में नक्शा पारित कराने का

60

Ranchi : राजधानी में आम लोगों से लेकर बिल्डरों को भवन निर्माण से पहले जमीन के दस्तावेजों की जांच कराने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. रांची नगर निगम में भवन प्लान (नक्शा) स्वीकृत करने के पहले जमीन के दस्तावेजों की जांच करायी जाती है. इसमें यह बताया जाता है कि जमीन में किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी (त्रुटी) नहीं है और उसके आधार पर ही भवन प्लान स्वीकृत करने की प्रक्रिया शुरू होती है. छोटे और बड़े नक्शे में यह एक जरूरी प्रावधान है.

रांची नगर निगम में अब जमीन के दस्तावेजों की जांच के नाम पर दो रुपये प्रति वर्ग फीट की दर से ऊपरी खर्च मांगा जाने लगा है. यानी अगर कोई 500 वर्ग फीट पर अपना मकान बनवाना चाह रहा है, तो पहले उसे एक हजार रुपये सिर्फ जमीन की जांच में खर्च करने होंगे. छोटे भवनों के लिए 3000 रुपये से 20 हजार रुपये तक की मांग की जा रही है, वहीं बड़े भवनों के लिए यह रकम और बढ़ जाती है.

इसे भी पढ़ें : दिल्ली में सुलझी महागठबंधन की गांठ, सभी मुद्दों पर बनी सहमति

छोटे भवनों के कागजों की जांच कराते हैं लाइसेंस इंजीनियर

रांची नगर निगम में सरकार की ओर से अधिकृत लाइसेंस इंजीनियर छोटे ऊननों से संबंधित जमीन की सत्यता की जांच कराते हैं. इनके द्वारा मेडिएटर किस्म के लोगों को रखा गया है, जो अपने मुवक्किल के दस्तावेज लाकर उन्हें देते हैं. लाइसेंस इंजीनियर से हरी झंडी मिलने के बाद सहायक आयुक्त स्तर के अधिकारी अपना अनुमोदन देते हैं. इनकी स्वीकृति मिलने के बाद फाइल टाउन प्लानर के पास भेजी जाती है.

बड़े बहुमंजिली इमारतों के लिए जूनियर इंजीनियर करते हैं जांच

राजधानी के 53 वार्ड में बननेवाले बहुमंजिली इमारतों की जमीन की जांच संबंधित वार्डों के जूनियर इंजीनियर करते हैं. इनका काम जमीन का डीड देखना, म्युटेशन, रसीद और अन्य चीजों की जांच करना है. जांच के दौरान कनीय अभियंता जमीन के मालिक और अन्य लोगों से मिल कर अनापत्ति प्रमाण पत्र सौंपते हैं. इसमें आर्किटेक्ट से भी बातचीत की जाती है.

इसे भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव पूर्व धनबाद पुलिस को मिली कामयाबी,  दो मिनी गन फैक्ट्री का भंडाफोड़, सरगना सहित छह…

एक टाउन प्लानर होने से धीमा पड़ गया है काम

28 फरवरी से रांची नगर निगम में एक ही टाउन प्लानर हैं. तत्कालीन टाउन प्लानर उदय सहायक के सेवानिवृत होने के बाद भवन प्लान स्वीकृत करने का काम धीमा पड़ गया है. फिलहाल मनोज कुमार ही एकमात्र टाउन प्लानर हैं, जो छोटा-बड़ा सभी तरह का नक्शा पास कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : दो माह में 16 नक्‍सली मुठभेड़, 15 नक्‍सली ढेर, 59 गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: