न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आइवीआरसीएल को ब्लैक लिस्ट करने से पहले से पड़े हैं 10 करोड़ के मोटर, ट्रांसफॉर्मर

रांची शहरी जलापूर्ति योजना फेज-1 के लिए खरीदे गये थे मोटर, IVRCL को दी गयी राशि सरकार ने की जब्त

36

Ranchi: राजधानी रांची की शहरी जलापूर्ति योजना फेज-1 के लिए खरीदे गये 10 करोड़ से अधिक के मोटर पंप, ट्रांसफॉर्मर और अन्य वस्तुएं पांच वर्षों से स्वर्णरेखा शीर्ष कार्य प्रमंडल के स्टोर में पड़े हुए हैं. योजना को क्रियान्वित कर रही तत्कालीन कांट्रैक्टर कंपनी आइवीआरसीएल की तरफ से यह सेंट्रीफ्यूगल पंप, एचटी पंप और ट्रांसफॉर्मर की खरीद दिल्ली की फ्लो मोर लिमिटेड कंपनी से की गयी थी.

इसे भी पढ़ेंःपलामू: पुलिस महकमे में मातम, 24 घंटे में दो जवानों की मौत

सरकार की तरफ से जून 2013 को आइवीआरसीएल को काली सूची में डाल दिये जाने के बाद से ये पंप और ट्रांसफॉर्मर स्टोर में ही पड़े हुए हैं. जानकारी के अनुसार, जुलाई 2013 से पहले ये पंप और ट्रांसफॉर्मर मंगाये गये थे. 280 करोड़ की जलापूर्ति योजना से सरकार पांच लाख की आबादी तक पीने का पानी पहुंचाना चाहती थी.

अब एलएनटी कर रही है काम

आइवीआरसीएल को ब्लैक लिस्ट में डालने के बाद निकाले गये टेंडर में लार्सन एंड टूब्रो को सरकार ने काम दिया है. योजना की लागत भी अब बढ़कर 345 करोड़ से अधिक हो गयी है. चार वर्ष बाद भी एलएनटी ने योजना को पूरा नहीं किया है. इसकी वजह से पेयजल और स्वच्छता विभाग की तरफ से मोटर और ट्रांसफॉर्मर नहीं स्थापित किया जा रहा है. विभाग के अधिकारियों का कहना है कि स्टोर में पड़े मोटर पंप और ट्रांसफॉर्मर लगाये जायेंगे, लेकिन मियाद तय नहीं है. यहां यह बता दें कि मोटर पंप की आपूर्ति करनेवाली कंपनी को भी अब तक भुगतान नहीं किया गया है. इतना ही नहीं, इसकी इंट्री पेयजल और स्वच्छता विभाग के शीर्ष कार्य प्रमंडल में भी नहीं की गयी है.

इसे भी पढ़ेंः कांग्रेस : झारखंड सह-प्रभारी उमंग पर पार्टी आलाकमान ने फिर जताया भरोसा, डॉ अजय बोले- बनेंगे…

आइवीआरसीएल को दी गयी अग्रिम राशि जब्त

आइवीआरसीएल को ब्लैक लिस्टेड करने के बाद सरकार ने 58.34 करोड़ रुपये जब्त कर लिये. इसमें 23.74 करोड़ रुपये की अग्रिम और अन्य राशि संलग्न है. सरकार की तरफ से मोटर पंप की खरीद के लिए भी तीन करोड़ रुपये की अग्रिम आइवीआरसीएल को दी गयी थी.

इसे भी पढ़ेंःसरकार रघुवर की हो या किसी और की, अधिकार पाने के लिए सत्ता से संघर्ष करते रहना होगा : बाबूलाल मरांडी

कहां-कहां लगने थे पंप और ट्रांसफॉर्मर

आपूर्ति किये गये पंप और ट्रांसफॉर्मर को रुक्का डैम के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, ललगुटुआ, डोरंडा-56 सेट, तुपुदाना, अरगोड़ा, हटिया, डिबडीह, सुकुरहुट्टू कांके में लगाया जाना था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: