HEALTHJharkhandNEWS

इधर बेड तैयार जिसका इस्तेमाल नहीं, दूसरी ओर नए बेड तैयार करने का आदेश

रेल कोच में है ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड की सुविधा

रिम्स के पार्किंग में 300 बेड तैयार करने का आदेश

advt

ट्रेनी के कोच में तैयार आइसोलेशन वार्ड पिछले साल से है तैयार

Ranchi: कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. अब तो हर दिन मिलने वाले पॉजिटिव का आंकड़ा भी उसी रफ्तार में बढ़ा रहा है. केवल सिटी में ही 14 सौ से अधिक पॉजिटिव 1 दिन में सामने आ रहे हैं. यह देखते हुए जिला प्रशासन और हेल्थ डिपार्टमेंट ने रिम्स में तत्काल 300 बेड बढ़ाने का आदेश दिया है, जिसमें 100 ऑक्सीजन वाले बेड होंगे. जबकि दूसरी ओर रेल कोच में तैयार 270 बेड का आइसोलेशन वार्ड पिछले एक साल से बेकार पड़ा है. अगर हेल्थ डिपार्टमेंट अलर्ट होकर 270 बेड का इस्तेमाल मरीजों के इलाज के लिए कर ले तो नए बेड लगाने की ज़रूरत ही नहीं पड़ेगी.

हर कोच है ऑक्सीजन सपोर्टेड

रांची रेल डिवीजन में तैयार आइसोलेशन कोच में हर कोच में ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था है. जिसमें केवल ऑक्सीजन सिलेंडर लगाकर मरीजों का इलाज किया जा सकता है. चूंकि वर्तमान में काफी मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट की ज़रूरत पड़ रही है.

300 बेड तैयार करने में लगेगा समय

मल्टी स्टोरीड पार्किंग में तत्काल 300 बेड की व्यवस्था करने को कहा गया है. जिसमें 100 बेड ऑक्सीजन वाले होंगे. इसे तैयार करने में भी टाइम लगेगा. लेकिन जो पहले से तैयार है उसका यूज करने में विभाग अपने कदम क्यों नहीं बढ़ा रहा है.

710 पेशेंट पर 4 ऑक्सीजन बेड

राज्य का सबसे बड़ा आइसोलेशन सेंटर राजधानी के खेलगांव स्टेडियम में बनाया गया है. यहां पर फिलहाल 710 कोरोना संक्रमित मरीजों को रखा गया है. इतने बड़े सेंटर में आधा दर्जन ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड रखे गए हैं. जिस से समझा जा सकता है कि अगर किसी मरीज को तुरंत ऑक्सीजन की जरूरत पड़ गई तो उसकी क्या हालत होगी. इसके बाद भी रेल कोच के इस्तेमाल में विभाग इंटरेस्ट नहीं दिखा रहा है.

इसे भी पढ़ेः खूंटी में  कोरोना की स्थिति विस्फोटक, दो मौतें, 127 नये मरीज, संख्या पहुंची 616

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: