Crime NewsJharkhandLead NewsRanchi

Be Alert: कॉल उठइले त गेले…..व्हाट्सएप-मेसेंजर पर वीडियो कॉल कर ब्लैकमेलिंग के जाल में फंसाती है लड़की

Sohan Singh

Ranchi. व्हाट्सएप पर वीडियो कॉल आया… कोई नंबर फ्लैश नहीं हो रहा था. इधर से फोन उठा लिया गया. उधर से एक लड़की प्रगट हुई. परिचय के साथ उसने कपड़े उतारने शुरू कर दिए. इधर जो फोन पर था, वो हतप्रभ था. उसने कुछ ही देर बाद कॉल काट दी. कॉल फिर आई. रिसीव किया और काट दिया. आधे घंटे बाद व्हाट्सएप पर वीडियो मिला. इसमें उसी शख्स का अश्लील वीडियो पड़ा हुआ था. उधर से धमकी दी गई कि अगर पैसे नहीं दिए तो ये वीडियो वायरल कर दिया जायेगा.

जी हां, सतर्क न रहे, तो ये वाकया किसी के साथ भी हो सकता है. दरअसल, ये साइबर क्रिमिनल का नया हथकंडा है. रांची में भी इस तरह के केसेज आने लगे हैं. एक-दो मामलों में सनहा भी दर्ज कराया गया है. फेसबुक की फर्जी आईडी बनाकर दोस्तों से पैसे मांगने वालों की तरह अभी साइबर क्राइम करने वालों का ये तरीका पूरी तरह चर्चा में नहीं आया है, लेकिन आप सावधान हो जाएं. ये साइबर अपराधियों का नया मॉड्यूल है. ये देर रात ऑनलाइन रहने वाले नंबरों पर नजरें गड़ाए रखते हैं. उसके बारे में तमाम जानकारियां इकट्ठा करते हैं. सारी जानकारी हो जाने के बाद होता है फोन का खेल.

Catalyst IAS
ram janam hospital

व्हाट्सएप और मेसेंजर पर आ रहे इस तरह के कॉल

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

फोन व्हाट्सएप या मैसेंजर पर आता है, जिसमें नंबर फ्लैश नहीं करता. फोन पर लड़की आती है, जो बताती है कि वो हाईप्रोफाइल है और दोस्ती करना चाहती है. या फिर इसी तरह की बातचीत. उसका मकसद उस शख्स को ज्यादा से ज्यादा देर तक फोन पर इंगेज करना होता है. ताकि वीडियो में उसके चेहरे के तमाम हाव भाव रिकॉर्ड हो सकें. लड़की अपने कपड़े भी उतारती है, सामने वाले को भी ऐसा करने के लिए कहती है. तमाम लोग ऐसी कॉल आते ही समझ जाते हैं कि ये झांसेबाजी है तो कई लोग इस झांसेबाजी में फंस भी जाते हैं. कॉल डिस्कनेक्ट होने के बाद ये लोग उस शख्स के चेहरे को मॉर्फ करके न्यूड वीडियो बना लेते हैं और फिर शुरू होता है ब्लैकमेलिंग का खेल.

फोन पर अचानक कहां से प्रकट होती है लड़की!

ऐसे झांसों पर अलर्ट रहने की जरूरत है. समझें और समझाएं कि फोन पर लड़की कहीं से अचानक नहीं टपकती. अपराधी बाकायदा जाल बिछाकर ऐसे शिकार करते हैं. अपराध का ये ट्रेंड बहुत तेजी से चल रहा है. इनका शिकार होने से बचिए.  अगर कोई ऐसे साइबर अपराधियों का शिकार हो गया है तो पहली बात कि डरना बंद करके पुलिस में रिपोर्ट करे. उससे पहले अपने परिवार में बताए, अपनी पत्नी, अपनी मां, अपने पिता को बताए.  ध्यान रहे कि एक बार इनकी धौंस में आकर अगर पैसे दे दिए तो आप इनके लिए एटीएम हो जाएंगे. ये अपने इशारों पर नचाते जाएंगे, आप नाचते जाएंगे.

साइबर डीएसपी ने बताया, कैसे बचें इस तरह की ब्लैकमेलिंग से

रांची की साइबर डीएसपी यशोधरा ने इस बाबत पूछे जाने पर कहा कि रांची में साइबर पुलिस के इस तरह का कोई केस रजिस्टर तो नहीं हुआ है, लेकिन हमें साइबर क्रिमिनल्स के इस नये हथकंडे की जानकारी है. टीनएजर्स की तो छोड़ दीजिए, मिडिल एज्ड लोग इस तरह के हथकंडे का शिकार ज्यादा बन रहे हैं. उन्होंने कहा कि लोग ठगी और ब्लैकमेलिंग के शिकार न हों, इसके लिए जरूरी है कि किसी भी अननोन नंबर से आया वीडियो कॉल कभी अटेंड न करें. इस तरह के कॉल व्हाट्सएप और फेसबुक मैसेंजर पर आते हैं. जरूरी है कि आप अपनी प्रोफाइल को अनावश्यक रूप से पब्लिक न करें. अगर प्रोफाइल की सेटिंग पब्लिक है, तो किसी भी अपरिचित के वीडियो-ऑडियो कॉल को पूरी तरह नजरअंदाज करें. अगर किसी परिचित के भी नंबर या प्रोफाइल से वीडियो कॉल आ रहा है, तो उसे अटेंड न करें बल्कि फोन पर रिंग बैक कर पहले कन्फर्म कर लें कि कॉल आपके परिचित का ही है.

Related Articles

Back to top button