Crime NewsJharkhandLead NewsRanchi

BE ALERT ( पार्ट1) : जरा संभल कर करें सोशल मीडिया का इस्तेमाल, जानें किन बातों से रहना होगा सावधान

Ranchi: आम लोगों के साथ बढ़ते साइबर अपराध को देखते हुए न्यूज विंग ने एक नयी पहल शुरू की है. इसके तहत अपने पाठकों को न्यूज विंग साइबर अपराध के प्रति जागरूक करेगा. इसी कड़ी में आज हम बात करेंगे सबसे ज्यादा चलने वाले सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर. सोशल मीडिया के इस्तेमाल में कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए. अगर सोशल मीडिया के प्रयोग में ध्यान नहीं दिया गया तो कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. साइबर अपराध के शिकार से बचने के लिए साइबर सेल डीएसपी यशोधरा ने न्यूज विंग को कई महत्वपूर्ण जानकारी दीं. उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया का प्रयोग करते हुए आपको इन बातों का विशेष ध्यान देने की जरूरत है.

अनजान लोगों को फ्रेंड लिस्ट में ना जोड़ें

सेल डीएसपी यशोधरा ने कहा कि फेसबुक सबसे पॉपुलर सोशल मीडिया माध्यम है. यह माध्यम अनजान लोगों को दोस्त बनाने का बेहतर मौका देता है. लेकिन इस प्रयोग करने के पहले आपको पूरी तरह से अपरिचित शख्स को फ्रेंड बनाने से बचना चाहिए. उन्हीं लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजें या उनकी ही फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करें, जिनको आप जानते हों.

प्राइवेसी बनाए रखें

सोशल मीडिया पर अपनी प्राइवेसी को बनाए रखना जरूरी होता है. इस पर कई तरह के लोग सक्रिय होते हैं. इसलिए फेसबुक या इंस्टाग्राम पर अपनी निजी जानकारियां ज्यादा नहीं डालें. अपना फोन नंबर हाइड कर के रखें. अपने करीबी दोस्तों, फैमिली मेंबर्स और ऑफिस के सहकर्मियों के बारे में भी गैरजरूरी जानकारी शेयर मत करें.

इसे भी पढ़ें-  भाजपा के लिए शर्म की बात है कि उन्हीं के मंत्री सरयू राय घोटालों को ला रहे हैं सामने- डॉ.एम. तौसीफ

धार्मिक उन्माद फैलाने और विवाद में पड़ने से बचें

सोशल मीडिया पर हर तरह की पोस्ट की जाती है. कई राजनीतिक पोस्ट भी होती है. कई ऐसी पोस्ट होती हैं, जिन्हें लेकर विवाद भी होते हैं. ऐसे विवादों में पड़ने से बचें. इनसे किसी तरह का कोई फायदा नहीं होता, उलटे मानसिक शांति भंग होती है. अगर आपको कोई पोस्ट पसंद नहीं आती हो तो आप उसे इग्नोर करके आगे बढ़ सकते हैं.

फेक आईडी और ट्रोलर

फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया पर फेक आईडी और ट्रोलर्स की भरमार है. फेक आईडी के जरिए महिलाओं से दोस्ती करने और उनसे अश्लील बातें करने की भी कोशिश की जाती है. कई बार वे यूजर्स को कमजोर समझ कर उन्हें धमकी तक देने लगते हैं. ऐसी स्थिति में तुरंत ब्लॉक के ऑप्शन का इस्तेमाल करें. अगर कोई ज्यादा ही परेशान कर रहा हो तो साइबर सेल में उसकी शिकायत की जा सकती है.

इसे भी पढ़ें- अब प्राइवेट क्लिनिक, अस्पताल, नर्सिंग होम और डायग्नोस्टिक सेंटर का रजिस्ट्रेशन जरूरी

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: