JharkhandRanchiSci & Tech

BAU के बिरसा तीसी-2 को मिला उन्नत किस्म का दर्जा, अधिसूचना जारी

Ranchi: केन्द्रीय उप आयुक्त (कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्रालय) ने 30 नवंबर को बिरसा कृषि विश्वविद्यालय, रांची द्वारा विकसित तीसी की नई उन्नत किस्म “बिरसा तीसी–2 (बीएयू -14-09)” गजट जारी किया है. भारत सरकार के कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्रालय द्वारा गठित फसल मानकों, अधिसूचना एवं फसल किस्मों के विमोचन की केन्द्रीय उप समिति द्वारा नये विकसित फसलों को अनुमोदन कर दी गयी. इस नये किस्म की अधिसूचना डॉ टीआर शर्मा, उपमहानिदेशक (फसल विज्ञान), आईसीएआर की अध्यक्षता में आयोजित केन्द्रीय उप समिति की 89 वीं बैठक में 47 मानद सदस्यों द्वारा सर्वसम्मति से अनुमोदन के उपरांत जारी की गई है.

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के पंडो जनजातियों के संरक्षण हेतु डॉ. रणधीर ने पहल करते हुए लिखा राष्ट्रपति को पत्र

बिरसा तीसी–2 की विशेषताएं

इस किस्म को देश के 25 वर्षाश्रित क्षेत्रों में तीन वर्षो के प्रदर्शन के आधार पर जारी किया गया है. इस किस्म की उपज क्षमता 13.83 क्विंटल/ हेक्टेयर है, जो नेशनल चेक (टी–397) एवं जोनल चेक (प्रियम) की अपेक्षा करीब 11 प्रतिशत सुपीरियर है. इन दोनों की अपेक्षा इसकी (परिपक्वता अवधि 128-130 दिन) भी कम है. इसमें करीब 44.54 % तेल की मात्रा पाई गयी है, जो नेशनल एवं जोनल किस्मों से अधिक है. यह किस्म रस्ट रोग के प्रति उच्च प्रतिरोधी तथा विल्ट, अल्टरनरिया ब्लाइट, पाउडरी माइल्डयू एवं बडफ्लाई रोग के प्रति मध्यम प्रतिरोधी है.

 

झारखण्ड राज्य के लिए उपयुक्त इस नये किस्म को आईसीएआर–अखिल भारतीय समन्वित तीसी व कुसुम फसल परियोजना, रांची केंद्र के परियोजना अन्वेंषक एवं मुख्य प्लांट ब्रीडर (तेलहनी फसल) के नेतृत्व में विकसित किया गया है. इस किस्म को वर्षो शोध उपरांत विकसित करने में शोध से जुड़े बीएयू वैज्ञानिक डॉ परवेज आलम, डॉ सविता एक्का, डॉ एमके वर्नवाल, डॉ रबिन्द्र प्रसाद, डॉ एकलाख अहमद, डॉ सुनील कुमार, डॉ एनपी यादव, डॉ नरगिस कुमारी एवं डॉ वर्षा रानी तथा सहयोगी फील्ड स्टाफ जयंत कुमार राम, देवेन्द्र कुमार सिंह, विशु उरांव एवं राम लाल उरांव का उल्लेखनीय योगदान रहा है.

कुलपति समेत बीएयू के वैज्ञानिकों ने जताया आभार

परियोजना अन्वेंषक (तीसी एवं कुसुम फसल) डॉ सोहन राम ने नये उन्नत किस्म “बिरसा तीसी–2” की केन्द्रीय एजेंसी से अधिसूचना जारी होने पर कुलपति डॉ ओंकार नाथ सिंह एवं निदेशक अनुसंधान डॉ एसके पाल, पूर्व निदेशक अनुसंधान डॉ अब्दुल वदूद के मार्गदर्शन एवं निर्देश के प्रति आभार जताया है. उन्होंने शोध से जुड़े सभी वैज्ञानिकों एवं फील्ड स्टाफ का वर्षो निरंतर सहयोग के प्रति आभार व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि इससे रांची केंद्र द्वारा परियोजना के अधीन तीसी फसल की विकसित तीन प्रभेदों (प्रीयम, दिव्या एवं बिरसा तीसी – 1) को सेंट्रल वेरायटल रिलीज़ कमिटी से अनुमोदन मिल चुकी है. कुलपति ने तीसी, सरगुजा एवं सरसों फसल के उन्नत किस्मों के विकास में डॉ सोहन राम के योगदान की प्रशंसा की है.

Related Articles

Back to top button