JamshedpurJharkhand Vidhansabha Election

BJP से निष्कासित बड़कुंवर गगरई ने जेपी नड्डा और पीएम को भेजा पत्र, कहा- प. सिंहभूम में वजूद के लिए तरसेगी पार्टी

Jamshedpur: झारखंड भाजपा में निष्कासन विवाद तूल पकड़ता जा रहा है. इसमें नया नाम भाजपा के पूर्व मंत्री और पूर्व विधायक बड़कुंवर गगराई का जुड़ गया है. गगरई का कहना है कि उनका निष्कासन पार्टी संविधान के विपरीत है. क्योंकि उन्होंने पार्टी को 17 नवंबर को ही इस्तीफा दे दिया था.

इसकी जानकारी देते हुए बड़कुंवर गगरई ने कहा की उन्होंने एक पत्र भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी भेजा है. इस पत्र में मंझगांव के पूर्व विधायक बड़कुंवर गगरई ने कहा है कि उनको अखबारों से यह जानकारी हुई कि उनको निष्कासित कर दिया गया है. इस निष्कासन की सूची में नाम होने पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए बड़कुंवर गगराई ने कहा कि भाजपा से उन्होंने 17 नवंबर को ही इस्तीफा दे दिया था.

इसे भी पढ़ेंः#JharkhandElection: 3rd फेज में 17 विधानसभा के 7016 केंद्रों पर शुरू हुआ मतदान

ram janam hospital
Catalyst IAS

इस्तीफा दिये जाने के बाद संविधान के विपरीत भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने उनका निष्कासन कर दिया. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि उनको यह प्रतीत हो रहा है कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा दुर्भावना से ग्रसित होकर कदम उठा रहे हैं.

The Royal’s
Sanjeevani

पार्टी नंबर वन लेकिन काम दो नंबर- गगरई

पत्र में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं समेत प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को संविधान का पाठ पढाते हुए गगऱई ने आरोप लगाते हुए कहा कि भले ही भाजपा विश्व की नम्बर वन पार्टी हो लेकिन काम नंबर दो वाली करती है.

क्योंकि न तो प्रदेश अध्यक्ष ने कभी पार्टी का संविधान पढ़ा है और न ही वरिष्ठ नेताओं ने. बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी दल के नेता को कम से कम इतना तो पता होता है कि जब कोई सदस्य अपने पद या सदस्यता से इस्तीफा दे चुका हो तो उसकी सदस्यता स्वत: समाप्त हो जाती है.

इसे भी पढ़ेंः#CAB को लेकर संसद के बाद सड़क पर विरोध प्रदर्शन, गुवाहटी-डिब्रूगढ़ में कर्फ्यू, कई ट्रेन और उड़ानें रद्द

‘लक्ष्मण गिलुवा ने बांट दिया भाजपा’

उन्होंने कहा है कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष हमेशा से पश्चिम सिंहभूम जिले के संगठन को दो धड़ों में बांटकर अपने चहेते छूटभइये नेताओं को आगे लाकर जिला संगठन को अस्त-व्यस्त करने में लग गए हैं. पश्चिम सिंहभूम में संगठन की क्या स्थिति है, यह किसी से छूपी नहीं है.

उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पश्चिम सिंहभूम में पार्टी ने जिन दो प्रत्याशियों को टिकट दिया, उसका खामियाजा 23 दिसम्बर को भुगतना होगा. पूरे जिले में पार्टी के वजूद पर प्रश्नचिन्ह लग गया है.

किसी दूसरे दल में जाने से पहले भारतीय जनता पार्टी के संविधान की मर्यादा रखी और इस्तीफा दिया, परन्तु दुखद है कि पार्टी घमंड से चूर है और किसी वरिष्ठ सदस्य की सुध लेना तो दूर बातचीत तक करना उचित नहीं समझा गया.

नगर परिषद चुनाव के नतीजे को किया नजरअंदाज

गगरई ने दलील दी कि पार्टी ने चाईबासा नगर परिषद चुनाव के नतीजे को नजरअंदाज किया. उसी वक्त पार्टी के कई लोग बीजेपी छोड़कर चुनाव लड़े और पार्टी के प्रत्याशी को हरा दिया. उस वक्त स्वंय प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सदस्य समीर उरांव चाईबासा में चुनाव का मोर्चा संभाले हुए थे.

इसे भी पढ़ेंः#Dhanbad: योगेंद्र यादव ने कहा- झारखंड में बढ़ी बेरोजगारी और पलायन की समस्या

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button