National

बार काउंसिल यौन उत्पीड़न के आरोपों में घिरे सीजेआई गोगोई के समर्थन में, रविवार को आपातकालीन बैठक  

NewDelhi : बार काउंसिल ऑफ इंडिया यौन उत्पीड़न के आरोपों में घिरे सीजेआई रंजन गोगोई को समर्थन में आया है. बार काउंसिल ने  सीजेआई रंजन गोगोई के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के झूठे और मनगढ़ंत आरोपों की निंदा की. कहा कि पूरा बार सीजेआई के साथ है और संस्था को धूमिल करने की कोशिश के खिलाफ खड़ा है.  इस संबंध में बार काउंसिल ऑफ इंडिया  के चेयरपर्सन मनन मिश्रा ने कहा, ये झूठे और मनगढ़ंत आरोप हैं और हम इस तरह के कृत्यों की निंदा करते हैं.  इस तरह के आरोपों और कृत्यों को प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए.  यह संस्थान को धूमिल करने का प्रयास है.  चेयरपर्सन ने कहा  कि संपूर्ण बार सीजेआई के साथ एकजुटता से खड़ा है.

इसे भी पढ़ें – सीजेआइ पर यौन उत्पीड़न का आरोप, हुई विशेष सुनवाई, बोले गोगोई- कुछ ताकतें सीजेआइ के ऑफिस को निष्क्रिय करना चाहती हैं

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन का टिप्पणी करने से इनकार

श्री मिश्रा ने कहा कि रविवार को बार काउंसिल ऑफ इंडिया की आपातकालीन बैठक बुलाई गयी है और उसमें इस सिलसिले में प्रस्ताव पारित किया जायेगा.  उन्होंने कहा, हम प्रस्ताव पास करेंगे और उसके बाद सीजेआई से मिलकर उन्हें काउंसिल के फैसले से अवगत कराने की कोशिश करेंगे.  दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट बार असोसिएशन (SCBA) के प्रेजिडेंट और सीनियर ऐडवोकेट राकेश खन्ना ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार किया.

बता दें कि  खन्ना शनिवार को हुई असाधारण सुनवाई के दौरान कोर्ट में मौजूद थे.  उन्होंने कहा, हम केस का हिस्सा नहीं हैं. कोर्ट के सामने कोई मुकदमा नहीं है.  मैं कोई इंटरव्यू (ताजा विवाद पर) नहीं देने जा रहा हूं. शुक्रिया.  सीनियर ऐडवोकेट विकास सिंह ने इन आरोपों की स्वतंत्र जांच की मांग की है.  उन्होंने कहा, अगर ये आरोप झूठे हैं तो ये निश्चित तौर पर न्यायपालिका की स्वतंत्रता के लिए खतरा है.  लेकिन अगर आरोप सही हैं तो यह भी बहुत गंभीर होगा.

इसे भी पढ़ें – पीएम मोदी ने कहा, हिंदुओं के साथ आतंकी शब्द चिपकाने के लिए कांग्रेस ने की साजिश

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: