न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बैभव सिन्हा की हालत पर रोना आया…

1,602

Dhanbad: हो सकता है कि आप बैभव सिन्हा को नहीं जानते हों. वह इन दिनों धनबाद मंडलकारा में बंद हैं. कोयलांचल धनबाद का इतिहास जाननेवाले बीपी सिन्हा को जानते हैं. जिनका दशकों तक कोयलांचल में एकछत्र राज था. सब उनकी हुक्म से चलता था.

इसे भी पढ़ें- NEWS WING IMPACT:  प्रशासन ने की सख्ती, पाकुड़ में बंद हुआ अवैध बालू उठाव

आज कोयलांचल की राजनीति में जो दबंग परिवारों से आनेवाले विधायक, सफेदपोश और कोलियरियों में हैसियतवाले लोग हैं, सबकी तरक्की सिन्हा साहब की कृपा से ही हुई. उनके जिंदा रहने तक कोयलांचल में कोई दूसरी ताकत नहीं थी. सब सिन्हा साहब के ही मोहरे थे. उसकी हत्या से उनके एकछत्र शासन का अंत हुआ. राजदेव राय जैसे कुछ बाहुबलियों ने उनका नाम ढोया तो सिर्फ इसलिए कि उनकी तरह दबदबा कायम कर सकें.
लेकिन, समय के साथ लोग भूल गये कि सिन्हा साहब कोयलांचल की बड़ी शक्ति थे. उनके एकमात्र पुत्र राजनीति प्रसाद सिन्हा ने भी राजनीति में घुसपैठ की कोशिश की. मगर, सफल नहीं हो पाए. सिन्हा साहब के बूते राजनीति में मुकाम पाए मंत्री रहे एसपी राय ने ही इस परिवार पर नकेल कस दी. बाद में राजनीति प्रसाद सिन्हा की पतोहू डा. उर्मिला सिन्हा ने भी धनबाद नगर निगम के मेयर का चुनाव लड़कर राजनीति में जगह बनाने की कोशिश की.

इसे भी पढ़ें- फिर किनारे किये गये काबिल अफसर, काम न आया भरोसा- झारखंड छोड़ रहे आईएएस

मगर, काफी पूंजी लगाकर भी वह इसमें नाकाम रहीं. सिन्हा साहब का मशहूर व्हाइट हाउस और अंग्रेजी मैम इतिहास की बात है. अब तो वहां टेस्ट ऑफ एशिया नाम का रेस्टोरेंट है, जिसे डा. उर्मिला सिन्हा का पुत्र बैभव सिन्हा चलाता है. कुछ वर्षों से बैभव रेस्टोरेंट के साथ कांग्रेस की राजनीति का जायका ले रहा है. राजनीति में इसकी बड़ी महत्वाकांक्षा को कोई बर्दाश्त नहीं करता. स्थिति है कि दर्जनभर किराये के लोगों के साथ बैभव ने अपनी पहचान के लिए रणधीर प्रसाद वर्मा चौक पर कभी डिबरी जलाकर पढ़ाई की तो कभी कुछ और किया.

अपनी खास पहचान के लिए रखे कुछ बाउंसर

बैभव सिन्हा ने राजनीति में कदम रखने से पहले ही अपने साथ कुछ बाउंसर अपनी खास पहचान के लिए रख लिए. इन बाउंसरों ने नेताओं की भीड़ में इनको किसी कार्यक्रम में बड़े नेताओं के साथ फोटो खिंचवाने में मदद की. बैभव ने मीडिया के लोगों से खास संबंध बनाकर खुद को राजनीति में स्थापित करने की भरसक कोशिश की. इनकी बढ़ती महत्वाकांक्षा के बीच घटनाक्रम कुछ ऐसा हुआ कि आज बैभव अकेले पड़ गये हैं.

खुद को चमकाने की कहानी महंगी पड़ी

बता दें कि कुछ दिन पहले इनके रेस्टोरेंट में एक युवती के साथ कुछ लोग एकांत में थे. यहीं कुछ बात हुई. मामला बढ़ा. बैभव ने खुद पर हमले की कहानी बनायी. अपनी और अपने लोगों की बहादुरी बताई. खुद पर गोली चलने की बात की. पिस्तौल छीनने की बात कही और उसे पुलिस के सुपुर्द भी किया. पहले तो पुलिस ने इसी कहानी को मान लिया. मान लिया कि प्रतिबंधित मांस मांगने पर बखेड़ा हुआ पर जब दूसरा पक्ष अड़ गया तो कहानी ही पलट गयी. मारपीट, लड़की से छेड़छाड़ के बाद अभी हाल में अवैध आग्नेयास्त्र रखने का मामला भी जुड़ गया.

इसे भी पढ़ेंःगैरमजरूआ जमीन को वैध बनाने का चल रहा खेल, राजधानी के पुंदाग में खाता संख्या 383 की काटी जा रही लगान रसीद

परिवार के लोग अलग-थलग पड़े

जिस दिन बैभव को पुलिस ने गिरफ्तार किया. उसी दिन खबर आयी कि गिरफ्तारी का विरोध करने के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डा. अजय कुमार धनबाद आएंगे. लेकिन दूसरे दिन खबर आयी कि वह नहीं आएंगे. एक जांच कमेटी बना दी गयी. अब तो कांग्रेस के लोग इस प्रसंग की चर्चा भी नहीं करते हैं. कोई बैभव की बात भी नहीं करता. गिरफ्तारी का ब्रह्मर्षि समाज ने शुरुआत में विरोध किया था. इसके बाद गिरफ्तारी के विरोध में जब धरना देने की बात हुई. बैभव की पत्नी और घर के सदस्यों के सिवा कोई साथ नहीं आया. ऐसा नहीं कि यह सिर्फ बैभव के साथ हुआ है. ऐसा होते आया है. बहरहाल, बैभव के राजनीतिक भविष्य पर प्रश्न चिह्न लग गया है.

इसे भी पढ़ें- IL&FS संकट : 1,500 नॉन-बैंकिंग फाइनैंशल कंपनियों के रद्द हो सकते हैं लाइसेंस, झारखंड पर भी पड़ेगा असर

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: