न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बैंक के सुरक्षाकर्मियों ने हाइकोर्ट के अधिवक्ता को पीटा

दोनों ओर से मामला दर्ज, बोकारो थर्मल एसबीआइ की घटना

195

Bermo : बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल स्थित एसबीआइ की शाखा में शुक्रवार की अपराह्न सवा चार बजे रांची हाइकोर्ट के अधिवक्ता, मजदूर नेता और इंटक ददई गुट के प्रदेश उपाध्यक्ष विकास सिंह के पुत्र अंजनी नंदन की होमगार्ड के जवानों द्वारा बुरी तरह से पिटाई मामले में शनिवार को बोकारो एसपी के हस्तक्षेप के बाद प्राथमिकी कांड संख्या 143/2018 भादवि की धारा 323,504,379,34 के तहत दर्ज की लिया गया है. दूसरी ओर बैंक में कार्यरत होमगार्ड के जवान मुन्नू साव के लिखित आवेदन पर भी कांड संख्या 144/2018 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी है.

इसे भी पढ़ें- राज्य के 70 हजार पारा टीचर गोलबंद: अब आर-पार की लड़ाई, सरकारी आदेश दरकिनार कर 20 से जेल भरो आंदोलन

क्या है मामला

रांची हाइकोर्ट के अधिवक्ता अंजनी नंदन ने थाना में दिये आवेदन में लिखा है कि शुक्रवार 16 नंवबर को वह अपराह्न साढ़े तीन बजे कार लोन का 65 हजार रुपया जमा करने गया था. बैंक में काउंटर पर मौजूद कर्मी ने एक बार में 60 हजार रुपया ही जमा करने की बात कही, तो वह 60 हजार रुपया ही जमा किया और पांच हजार रुपया अपने पॉकेट में रखकर बैंक से निकलने लगा तो बैंक के मेन गेट पर ताला लगा देख डयूटी पर मौजूद गार्ड से बाहर जाने के लिए ताला खोलने को कहा. गार्ड ने कहा कि जब तक पांच आदमी नहीं हो जाते हैं तो ताला नहीं खुलेगा. गार्ड से अधिवक्ता ने कहा कि उसे अपनी मां को दिखाने डॉक्टर के पास लेकर जाना है इसलिए उसे बाहर जाने दें. इतना कहते ही गेट पर तैनात गार्ड ने उसके साथ गाली गलौज करते हुए दुर्व्‍यवहार किया.

इसे भी पढ़ें- JPSC : लेक्चरर नियुक्ति घोटाला मामले का जल्द खुलासा कर सकती है सीबीआई, जांच प्रक्रिया पूरी

अधिवक्ता द्वारा आपत्ति जताने पर की पिटाई

अधिवक्ता द्वारा इस पर आपत्ति जताने एवं विरोध करने पर गेट पर मौजूद गार्ड मुन्नू साव सहित अन्य गार्ड भरत पांडेय, रीतलाल आदि ने अधिवक्ता को बंदूक के कुंदे तथा लाठी से बुरी तरह से पिटाई किया और थाना को सौंपने के लिए उसे जबरन बैठा कर बैंक के अंदर ही रख लिया. मारपीट के क्रम में अधिवक्ता के शर्ट के उपरी पॉकेट में रखा पांच हजार रुपया भी निकाल लिया.

इसी बीच बैंक के मैनेजर आये और उन्होंने भी गार्ड को मुझे मारने के लिए ललकारा. कहा गार्ड को कहा कि इसे बाहर जाने मत दो. बाद में थाना से आये पुलिस पदाधिकारी ने अधिवक्ता को बचाया. दूसरी ओर बैंक के गार्ड मुन्नू साव का कहना था कि अंजनी नंदन बैंक से बाहर जाने के क्रम में उससे उलझ गया तथा गाली गलौज एवं धक्का मुक्की करते हुए उसके गोली रखने वाले बिंडोलिया एवं बंदूक को छीनने का प्रयास किया.

इसे भी पढ़ें- 17 जिलों को अब तक नहीं मिली 14वें वित्त आयोग की राशि, राज्यभर के मुखिया कलमबंद हड़ताल पर

24 घंटे बाद दर्ज की गयी प्राथमिकी

अधिवक्ता अंजनी नंदन का कहना था कि बैंक में मारपीट की घटना के 24 घंटे बाद थाना में प्राथमिकी दर्ज की गयी. जबकि इसकी लिखित सूचना घटना के बाद ही दे दी गयी थी.

इसे भी पढ़ें- पत्रकारों की पिटाईः हेलमेट पहन कर पत्रकार पहुंचे थाना, प्रशासन के…

खंगाला गया बैंक के सीसीटीवी को

शनिवार को स्थानीय थाना के इंस्पेक्टर परमेश्वर लेयांगी पूर्वाहन साढ़े ग्यारह बजे एसबीआइ की स्थानीय शाखा में जाकर मुख्य प्रबंधक आरके वर्मा से मिल घटना की जानकारी ली और सीसीटीवी के फुटेज को खंगाला. बाद में इंस्पेक्टर ने पूछे जाने पर कहा कि दोनों ओर से घटना का लिखित आवेदन देने के बाद दोनों ओर से प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी. मामले में अनुसंधान के बाद ही विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी.

इंटक नेता विकास सिंह ने पूरे मामले में कहा कि स्थानीय एसबीआइ में बैंक के प्रबंधक सहित कर्मियों का व्यवहार ग्राहकों से बेहद ही खराब है, जिसके कारण आये दिन इस प्रकार की घटनाएं घटती रहती हैं. बैंक के मुख्य प्रबंधक आरके वर्मा का कहना था कि घटना के समय वे अपने कार्यालय कक्ष में थे. जानकारी मिलने पर जाकर देखा तो मामले को शांत करवाया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: