World

विदेश में रह रहे बांग्लादेश के अल्संख्यकों ने #CAA को बताया मानवतावादी कानून

Washington :  बांग्लादेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने वाले लोगों और संगठनों के एक समूह ने संशोधित नागरिकता कानून को मानवीय बताते हुए कहा है, कि इस कानून के माध्यम से भारत ने बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के लाखों गैर-मुसलमानों के प्रति अपने कर्तव्य को आंशिक रूप से पूरा किया है.

Sanjeevani

उन्होंने कहा कि इन गैर-मुसलमानों को हाल के वर्षों में अपना देश छोड़ना पड़ा है और वे अपने अधिकारों के लिए दावा भी नहीं कर सकते.

MDLM

इसे भी पढ़ें – मात्र 4 स्टार्टअप को गर्वमेंट ऑर्डर, हजारों इंडस्ट्री बंद, फैक्ट्रियों की काटी बिजली, कैसे दिया उद्योग में झारखंड को पहला स्थान

सीएए ने  कई अधिकार दिये हैं

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के अनुसार, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक कारणों से सताए जाने के बाद वहां से भागकर 31 दिसंबर, 2014 तक भारत आये हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को देश की नागरिकता दी जाएगी.

समूह ने बुधवार को एक बयान में कहा कि इस कानून के जरिए भारत ने हाल के वर्षों में बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से भागकर आए लाखों गैर-मुसलमानों के प्रति अपने कर्तव्य की आंशिक पूर्ति की है. ये वे शरणार्थी हैं, जो भारत में अपने अधिकारों के लिए दावा नहीं कर सकते थे. सीएए ने उन्हें अधिकार दिए हैं.

इसे भी पढ़ें – ढुल्लू से रंगदारी मांगने के आरोपी का खुलासाः BCCL से कबाड़ समेटने के टेंडर पर MLA को दिये थे 40 लाख

कई संगठनों ने किये हैं हस्ताक्षर

करीब दर्जन भर देशों की प्रमुख हस्तियों और संगठनों द्वारा हस्ताक्षरित इस बयान में कहा गया है कि पूरी दुनिया में शांतिपूर्ण तरीके से रह रहे हम बांग्लादेश के प्रवासी हिन्दू और अन्य जातीय अल्पसंख्यक भारत की संसद द्वारा पारित संशोधित नागरिकता कानून (2019) का पूरा समर्थन करते हैं. यह इंसानियत के प्रति एक मानवीय कदम है.

जिन संगठनों ने इस बयान पर हस्ताक्षर किए हैं, उनमें बांग्लादेश माइनोरिटी कोलिजन (अमेरिका), बांग्लादेश माइनोरिटी राइट्स एलायंस (कनाडा), बांग्लादेश माइनोरिटी काउंसिल (स्विटजरलैंड), बांग्लादेश हिन्दू कोलिजन (अमेरिका) और बांग्लादेश हिन्दू बौद्ध ईसाई यूनिटी काउंसिल (फ्रांस) शामिल हैं.

बयान में कहा गया है कि हम आशा करते हैं कि भारत सरकार बांग्लादेश में तकलीफ झेल रहे गैर-मुसलमान समुदाय के कल्याण के लिए काम करती रहेगी.

इसे भी पढ़ें – मुख्य सचिव ने सचिवों से कहा: अपने-अपने विभागों में देखें कहीं फाइलें जलायी तो नहीं जा रहीं 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button