न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Bangladesh ने CAA और NRC को भारत का आंतरिक मामला बताया, पर चिंता भी जाहिर की

CAA के अनुसार, 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से धार्मिक उत्पीड़न से भागकर आये हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के सदस्यों को भारतीय नागरिकता दी जायेगी

47

Dhaka : बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने संशोधित नागरिकता कानून (CAA) और NRC को भारत का आंतरिक मामला कहा है,  हालांकि चिंता भी व्यक्त की है.  बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन के अनुसार  CAA और NRC भारत के आंतरिक मुद्दे हैं लेकिन देश में अनिश्चितता की कोई भी स्थिति पड़ोसी देश पर असर डाल सकती है.  भारत में  बढ़ते प्रदर्शनों के बीच मोमेन ने उम्मीद जताई कि स्थिति सुधरेगी,  भारत इस समस्या से बाहर निकल जायेगा.

इसे भी पढ़ें : #CAA के खिलाफ कांग्रेस का राजघाट पर सत्याग्रह सोमवार को

उनका देश भारत पर यकीन करता है. हम भारत के नंबर वन दोस्त 

CAA के अनुसार, 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से धार्मिक उत्पीड़न से भागकर आये हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के सदस्यों को भारतीय नागरिकता दी जायेगी.  जान लें कि संसद में  यह विधेयक पारित होने के बाद से ही भारत में प्रदर्शन शुरू हो गये हैं.

विदेश मंत्री मोमेन से CAA को लेकर खासतौर से पूर्वोत्तर राज्यों में  प्रदर्शनों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा,  यह भारत  का आंतरिक मामला है.  भारत सरकार ने हमें बार-बार आश्वस्त किया है कि ये उनके घरेलू मुद्दे हैं, वे कानूनी और अन्य वजहों से ऐसा कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :  #CAA_support: RSS-BJP ने निकाली तिरंगा रैली, समर्थन में उतरे हजारों लोग

इसका असर बांग्लादेश पर नहीं पड़ेगा

मोमेन के अनुसार  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से बातचीत करते हुए उन्हें आश्वस्त किया था कि किसी भी परिस्थिति में इसका असर बांग्लादेश पर नहीं पड़ेगा. मंत्री ने  कहा कि  उनका देश भारत पर यकीन करता है. हम भारत के नंबर वन दोस्त हैं.   उदाहरण दिया कि  जब अमेरिका में आर्थिक मंदी आती है तो इससे कई देश प्रभावित होते हैं क्योंकि हम वैश्विक दुनिया में जीते हैं.

हमारा डर है कि अगर भारत में अनिश्चितता की कोई स्थिति होती है तो इसका असर उसके पड़ोसियों पर भी पड़ सकता है. मोमेन ने कहा, यह चिंता की बात है. हम उम्मीद करते हैं कि स्थिति में सुधार आएगा और भारत इससे बाहर निकल सकेगा. यह उनका आंतरिक मुद्दा है. यह हमारा मसला नहीं है.  उन्हें इससे निपटना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : #PMModi ने धन्यवाद रैली में कहा, मोदी का विरोध करना है तो कीजिए, लेकिन देश की संपत्ति ना जलायें…..:

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like