न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बांग्लादेश : शेख हसीना की पार्टी आवामी लीग की बड़ी जीत, फिर बनेंंगी पीएम

शेख हसीना का एक बार फिर से पीएम बनना भारत के लिए भी कूटनीतिक लिहाज से अच्छी खबर कही जा सकती है.  उनकी अवामी लीग पार्टी को भारत के प्रति नरम रुख के लिए जाना जाता है.

1,160

Dhaka : बांग्लादेश में शेख हसीना की पार्टी आवामी लीग ने आम चुनाव में बड़ी जीत दर्ज की है. बता दें कि  रविवाद देर रात आये नतीजों के बाद इसकी घोषणा की गयी. शेख हसीना का एक बार फिर से पीएम बनना भारत के लिए भी कूटनीतिक लिहाज से अच्छी खबर कही जा सकती है.  उनकी अवामी लीग पार्टी को भारत के प्रति नरम रुख के लिए जाना जाता है.  हालांकि विपक्षी पार्टियों ने वोटिंग में गड़बड़ी का आरोप लगाकर फिर से चुनाव कराए जाने की मांग की है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो आवामी लीग के नेतृत्व में बने गठबंधन ने 300 में से 266 सीटों पर जबरदस्त जीत दर्ज की है. निजी चैनल डीबीसी टीवी ने बताया कि 300 में से 299 सीटों के नतीजे आ गये हैं.  रिपोर्ट में बताया गया कि आवामी लीग ने जहां 266 सीटों पर जीत दर्ज की है, इस बीच चुनावों के दौरान हुई राजनीतिक हिंसा में देश भर से 17 लोगों के मारे जाने की खबरें हैं.  वहीं इसकी सहयोगी जतिया पार्टी ने 21 सीटें अपने कब्जे में की हैं.  वहीं विपक्षी गठबंधन नैशनल यूनिटी फ्रंट महज 7 सीटों पर जीत दर्ज कर सका.  लोकल मीडिया का कहना है कि दो सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों से जीत दर्ज की है.

एनयूएफ गठबंधन ने चुनाव के नतीजों को मानने से इनकार कर दिया

Related Posts

अमेरिका-चीन ट्रेड वार चरम पर,  ट्रंप ने कहा, हमें चीन की जरूरत नहीं, अमेरिकी कंपनियां चीन छोड़ें

पार युद्ध पहले ही अमेरिका की प्रगति की गति कम कर चुका है और वैश्विक अर्थव्यवस्था को कमजोर किया है  शेयर बाजारों की भी हालात खराब की है.

SMILE

बांग्लादेश के चुनाव आयोग ने बताया कि हसीना को अपनी सीट दक्षिण पश्चिमी गोपालगंज में 2,29,539 वोट मिले है. जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी, बीएनपी के उम्मीदवार महज 123 वोट मिले हैं.  बांग्लादेश की विपक्षी पार्टी एनयूएफ गठबंधन ने चुनाव के नतीजों को मानने से इनकार कर दिया है.  उन्होंने कार्यवाहक तटस्थ सरकार के नेतृत्व में फिर से चुनाव कराये जाने की मांग की है. बता दें कि एनयूएफ कई पार्टियों का गठबंधन है, जिसमें बीएनपी, गोनो फॉरम, जातीय समाजतांत्रिक दल, नागोरिक ओइक्या और कृषक श्रमिक जनता लीग शामिल हैं.  एनयूएफ के संयोजक और सीनियर वकील कमाल हुसैन ने कहा कि वह इन नतीजों को नकारते हैं और तठस्थ सरकार के नेतृत्व में फिर से चुनाव कराने की मांग करते हैं.  उन्होंने चुनाव आयोग से चुनाव रद्द करने की मांग करते हुए कहा कि उनके पास लगभग सभी सेंटरों पर छल करने की खबरें हैं. बता दें कि शेख हसीना चौथी बार पीएम बनेंगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: