JharkhandRanchi

बंधु तिर्की जेल से निकले, बाबूलाल ने कहा- टाइगर अभी जिंदा है

Ranchi : झाविमो के केंद्रीय महासचिव और पूर्व मंत्री बंधु तिर्की शुक्रवार को 42 दिनों के बाद जमानत पर जेल से रिहा हुए. उनके रिहा होने के बाद झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने रांची स्थित पार्टी मुख्यालय में फूल-माला पहनाकर और मिठाई खिलाकर उनका स्वागत किया और कहा- टाइगर अभी जिंदा है. इससे पूर्व झाविमो के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने तिर्की के जेल से निकलने पर बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार, होटवार के बाहर उनका जोरदार स्वागत किया. जेल से निकलने के बाद तिर्की सबसे पहले बिरसा मुंडा समाधि स्थल, कोकर पहुंचे और पुष्प अर्पित किये. इसके बाद बंधु तिर्की को कार्यकर्ता जुलूस के रूप में लेकर पार्टी मुख्यालय पहुंचे, जहां झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने फूल-माला पहनाकर एवं मिठाई खिलाकर स्वागत किया.

Jharkhand Rai

सरकार अपने राजनीतिक विरोधियों की आवाज दबाना चाहती है : बाबूलाल मरांडी

इस अवसर पर बाबूलाल मरांडी ने कहा कि सरकार अपने राजनीतिक विरोधियों की आवाज दबाना चाहती है. जेल एवं मुकदमा से जनता की आवाज को नहीं दबाया जा सकता. उन्होंने कहा कि बंधु तिर्की को राजनीतिक साजिश के तहत जेल भेजा गया था. भाजपा पूरे देश में सरकारी मशीनरी और संवैधानिक सस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है.

सीबीआई का दुरुपयोग कर रही सरकार : बंधु तिर्की

बंधु तिर्की ने कहा, “हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा था, इसलिए हमें न्याय मिला है. सरकार सत्ता के नशे में चूर होकर सीबीआई जैसी संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है. यह सरकार अब कुछ ही दिनों की मेहमान है. जनता 2019 में सबक सिखा देगी.”

Samford

तिर्की का स्वगात करनेवालों में मुख्य रूप से झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी सहित पार्टी नेता राम चंद्र केशरी, जगदीश लोहरा, सुनील गुप्ता, प्रभुदयाल बड़ाईक, जितेंद्र वर्मा, शिव संकर शर्मा, तौहीद आलम, बल्कु उरांव, संजय टोप्पो, समति देवी, शिवा कच्छप, राम मनोज साहू, सूरज टोप्पो, अजय कच्छप, शिव संकर साहू, अजय कच्छप, निर्मल पाहन, उदय सिंह, अविनाश कुमार, शशि साहू, रूपचंद केवट, रितेश सिंह, जितेंद्र सिंह, राकेश सिंह, सुनील उरांव, शमी उरांव, कुंदन तिर्की, इश्तियाक अंसारी, नकुल तिर्की, परवेज आलम, प्रवीण सिंह, हसीब अंसारी सहित सैकड़ों कार्यकर्ता व नेता शामिल थे.

आय से अधिक संपत्ति मामले में गये थे जेल

झाविमो के केंद्रीय महासचिव और पूर्व मंत्री बंधु तिर्की को आय से अधिक संपत्ति के मामले में सीबीआई ने 12 दिसंबर 2018 को गिरफ्तार किया था. उन्हें सीबीआई की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा की टीम ने उनके बनहोरा स्थित आवास से गिरफ्तार किया था. उसके बाद सीबीआई कोर्ट में पेशी के बाद से बंधु तिर्की होटवार स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार में बंद थे.

इसे भी पढ़ें- डॉ अजय बच रहे हैं जमशेदपुर सीट पर चुनाव लड़ने से, झामुमो की है सीट पर नजर, कुणाल या आस्तिक पर खेलेगा…

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: