JharkhandRanchi

बंधु तिर्की का आरोप, 14वें वित्त आयोग के पैसे में बंदरबांट, जांच कराए सरकार

Ranchi: मांडर विधायक सह पूर्व शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की ( Mandar MLA Bandhu Tirkey ) ने आरोप लगाया है कि 14वें वित्त आयोग ( 14th Finance Commission )  के पैसों की बंदरबांट हुई है, इसमें पंचायत प्रतिनिधि सीधे तौर पर संलिप्त है. साथ ही इन मामलो में प्रखंड के पदाधिकारियों की संलिप्तता से भी इनकार नहीं किया जा सकता.

ये भी पढ़ें-  Hazaribagh: ACB ने राजस्व कर्मचारी रागिनी कुमारी को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा

advt

बंघु तिर्की ने कहा कि क्षेत्र भ्रमण के दौरान कहीं भी कोविड-19 महामारी के नियंत्रण के लिए ग्राम पंचायतों द्वारा 14वें वित्त आयोग मद की राशि का उपयोग कराते हुए नहीं दिखता है. पंचायती राज के सचिव की ओर से 22 अप्रैल को जारी पत्र में पंचायतों को 14वें वित्त आयोग कोविड महामरी में उपयोग करने की बात कही गई थी.

 

क्या था पंचायती राज के सचिव के पत्र में

सचिव द्वारा जारी पत्र में कोविड-19 ( Covid-19 ) महामारी के नियंत्रण हेतु ग्राम पंचायतों द्वारा 14वें वित्त आयोग मद की राशि का उपयोग करने का निर्देश दिया था. जिसके अंतर्गत पंचायत क्षेत्र में कोविड-19 के प्रसार को रोकने हेतु आवश्यक रोगाणुनाशक छिड़काव व्यवस्था संबंधी कार्य, पंचायत क्षेत्र में आने वाले आमजनों के उपयोग से संबंधित भवन जौसे पंचायत भवन विद्यालय-महाविद्यालय, आंगनबाड़ी केंद्र, अस्पताल, बाजार- हाट, बैंक संस्थाएं, डाकघर, सामुदायिक संपत्ति, भवन आदि में रोगाणु नाशक छिड़काव संबंधी कार्य, पंचायत क्षेत्र में सार्वजनिक नालियों ग्रामीण पथ की साफ सफाई एवं कचरा उठाओ तथा रोग नाशक छिड़काव संबंधी कार्य ऐसे कार्यों में लगे हुए स्वास्थ्य कर्मियों स्वयंसेवियो को मास्क, सैनिटाइजर, हैंड ग्लव्स, हाथ धोने का साबुन इत्यादि उपलब्ध कराना था.

 

केंद्र और राज्य सरकार द्वारा समय-समय जारी होते रहे दिशा-निर्देश

पंचायत क्षेत्र में कोविड-19 ( Coronavirus ) के प्रसार को रोकने हेतु केंद्र व राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर दिशा निर्देशों जारी करता रहा है. जिसमें ग्राम पंचायतों द्वारा क्रियान्वित की जा रही अन्य गतिविधियां यथा क्वॉरंटीन सेंटर की स्थापना, प्रभावित क्षेत्र में जरूरतमंद और भूखे लोगों के लिए भोजन आश्रय केन्द्रो का संचालन, महामारी से बचाव के लिय सूचना उपलब्ध कराने एवं प्रचार प्रसार संबंधी कार्य भी दिये गये.

 

स्वच्छता संबंधी गतिविधियों का संचालन का जिम्मा भी पंचायतों को

कोविड-19 महामारी के रोकथाम के लिय ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता संबंधी गतिविधियों का संचालन किया जाना था, इस क्रम में गार्मी एवं वर्षा ऋतु में विभिन्न प्रकार के मच्छर जनित रोगों जैसे मलेरिया डेंगू चिकनगुनिया तथा इंसेफेलाइटिस आदि रोगों के फैलने की संभावना बनी रहती है. ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता संबंधी गतिविधियों तथा नियमित स्वक्षता जलजमाव की रोकथाम समय-समय पर रोगाणु नाशक छिड़काव तथा मच्छर जनित रोगों की रोकथाम के लिए अन्य आवश्यक गतिविधियां भविष्य में भी नियमित रूप से संचालित किया जाना था.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: