JharkhandMain SliderRanchi

पूर्व DGP पर बहु का आरोप: पति है गे, ससुर डीके पांडेय ने कहा था-मुझसे बना लो संबंध (पढ़ें, पूरी FIR)

Ranchi: झारखंड राज्य में ये पहली घटना है कि किसी मोस्ट सीनियर ब्यूरोक्रेट पर इतने गंभीर आरोप लगे हों. आरोप लगाने वाला और कोई नहीं बल्कि उनकी एकलौती बहु है. डीजीपी डीके पांडेय के ऊपर उनकी बहू ने गंभीर आरोप लगाये हैं. डीके पांडेय की बहू रेखा मिश्रा का आरोप है की उसके पति गे हैं. इतना ही नहीं उनकी बहु रेखा ने खुद डीके पांडेय पर आरोप लगाया है कि उसके ससुर उसके साथ अवैध शारीरिक संबंध बनाना चाहते थे. बात यहीं नहीं रुकती है बहु का आरोप है कि डीके पांडेय बहु रेखा को दूसरों के साथ संबंध बनाने के लिए मजबूर भी किया करते थे.

इसको लेकर बहू रेखा मिश्रा ने शनिवार को महिला थाना में FIR दर्ज कराई है. पुलिस ने ससुर डीके पांडेय, सास पूनम पांडेय और पति शुभांकर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. इस मामले में पुलिस का कहना है कि जो भी आरोप लगाये गये हैं उसकी जांच की जाएगी और उसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ें- चीन में भारतीय राजदूत का बयान जारी करने पर प्रसार भारती ने न्यूज एजेंसी PTI (भाषा) को बताया राष्ट्र विरोधी

क्या है FIR में

शनिवार को रेखा मिश्रा ने महिला थाना में मामला दर्ज कराया. दर्ज कराये गये शिकायत में कहा गया है कि 15 फरवरी 2016 को हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार रांची में मेरी शादी शुभांकर के साथ हुई थी. शादी के बाद हमलोग जमशेदपुर के बिस्टुपुर इलाके में रहने लगे. शादी के दूसरे दिन ही मुझे पता चला कि मेरे पति शुभांकर गे कैरेक्टर के हैं. वो मुझसे ना तो शारीरिक संबंध बनाना चाहते थे और ना ही किसी तरह का वैवाहिक संबंध रखना चाहते थे. मैंने इस बात की जानकारी अपने सास और ससुर दोनों को दी.

उन्होंने किसी तरह का कोई ठोस जवाब ना देते हुए मुझसे कहा कि उनके बेटे को मेडिकल प्रॉब्लम है. जो चेकअप के बाद ठीक हो जाएगा. सास-ससुर के इस झूठे दिलासे पर मैं तीन सालों तक इंतजार करती रही. मुझे आशा थी कि शायद मेरे पति के बिहेवियर में बदलाव आए. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

मैं तब और परेशना हो गयी जब मेरे सास और ससुर ने ही मुझे किसी और से संबंध बनाने को कहा. उनका कहना था कि मैं वैवाहिक सुख के लिए किसी और से संबंध बना लूं. यहां तक कि एक समारोह के दौरान जब मैं अकेली थी तो मेरे ससुर डीके पांडेय ने अपने साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए मुझे कहा.

शुभांकर में समलैंगिकता के लक्षण बढ़ते जा रहे थे. वह मुझसे मिलना और बात तक करना पसंद नहीं करता था. वो किसी से बात नहीं करता था. सास पूनम पांडेय इस बात पर जोर देती थी कि मैं अपने एनजीओ पर ध्यान दूं. और उसी में बिजी रहूं. सास ऐसा इसलिए कहती थी ताकि मैं अपने पति शुभांकर से दूर रह सकूं.

इसे भी पढ़ें- लॉकडाउन में 34 प्रतिशत परिवारों को आंगनबाड़ी केंद्रों से पोषण आहार नहीं मिला

दहेज के लिए भी करते थे प्रताड़ित

डीके पांडेय की बहू रेखा मिश्रा का आरोप है कि शादी के बाद से ही सास, ससुर और पति दहेज की मांग को लेकर मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे. विरोध करने पर धमकी दी जाती थी. आखिरकार इन सभी चीजों से थक कर वो अपने पिता के घर यानी अपना मायका लौट आयीं.

विवादों में रहे हैं पूर्व DGP

पूर्व डीजीपी डीके पांडेय ने भले ही झारखंड में अपनी छवि रॉबिनहुड वाली बनाने की कोशिश की हो. लेकिन हमेशा से वो एक विलेन की छवि में ही दिखे. पलामू के बकोरिया में कथित पुलिस मुठभेड़ में नक्सली करार देकर मारे गये नाबालिग सहित दर्जनभर लोगों के मामले की जांच सीबीआइ कर रही है.

जिसमें पूर्व डीजीपी पर भी संगीन आरोप हैं. इतना ही नहीं, फर्जी नक्सली सरेंडर का मामला भी अभी हाइकोर्ट में लंबित है. कभी गले में सांप लपेटकर सुर्खियां बनने वाले पूर्व डीजीपी जमीन संबंधित विवाद और अब इस विवाद पर पूरी तरह चुप्पी साधे हुए है.

इसे भी पढ़ें- साहिबगंज: अपहृत व्यवसायी की गोली मारकर हत्या, मांगी गयी थी 30 लाख की फिरौती

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close