Jamshedpur

बागबेड़ा जलापूर्ति : डीसी से मिलकर आम लोगों ने शुरू कराया सफाई कार्य

मुखिया के हस्तक्षेप के बाद रविवार को नहीं हुआ था सफाई कार्य, बस्ती के लोगों ने रविवार को बैठक कर बनायी थी आंदोलन की रणनीति

Jamshedpur :  फिल्टर पंप का सफाई कार्य मुखिया की ओर से बंद कराये जाने के विरोध में सोमवार बागबेड़ा हाउसिंग कॉलोनी के लोग डीसी से मिले और उन्हें ज्ञापन सौंपा. इसके बाद सफाई का काम सोमवार से फिर से शुरू कराया गया है. इस दौरान बस्ती के लोग भाजपा नेता सुबोध झा के साथ पहुंचे हुए थे. सुबोध झा ने कार्यपालक अभियंता से बात की और कहा कि इसका काम जल्द कराने के लिए 6-7 लेबर के बजाए 20-25 को लगाना होगा. इसके लिए उन्होंने एसडीओ सागर सिंह और जेई सत्य प्रकाश पांडे को दिशा-निर्दश भी दिया.

टाटा स्टील उपलब्ध करवाये पानी

इस दौरान कॉलोनी के लोगों ने टाटा स्टील से पानी की सुविधा उपलब्ध करवाने की मांग की. बागबेड़ा का पूरा इलाका 10 किलोमीटर की परिधि में ही आता है. अगर टाटा स्टील की ओर से पानी उपलब्ध करवाने का काम नहीं किया जाता है तो इसको लेकर आंदोलन भी किया जा सकता है.

MDLM
Sanjeevani

ये थे मौजूद

अजय ओझा, पंचायत के विनोद सिंह, अमित श्रीवास्तव, रंजन श्रीवास्तव, मनोज तिवारी, विनय सिंह, सुमन कुमार झा, अमित कुमार, राकेश कुमार, आदि मौजूद थे.

बागबेड़ा में चार दिनों से पानी की आपूर्ति नहीं

बागबेड़ा कॉलोनी में पिछले चार दिनों से जलापूर्ति नहीं हो रही है. आपसी तालमेल के अभाव में कॉलोनी के पूरे लोग ही पीस रहे हैं. जलापूर्ति का काम शुरू नहीं होने से कॉलोनी के लोगों को भारी परेशानी हो रही है.

कब से शुरू होगी जलापूर्ति, किसी के पास जवाब नहीं

बागबेड़ा में जलापूर्ति का काम कब से शुरू होगा, इसका जवाब किसी के पास नहीं है. सिर्फ राजनीति करने में ही चार दिन बीत गया है. एक बार सफाई का काम शुरू भी हुआ था तो उसे एक दिन के लिए बंद करवा दिया गया था.

दुर्गंध वाली पानी पीने लायक नहीं

एक सप्ताह के बाद भी अगर जलापूर्ति की सुविधा दे दी जाती है तो वह पानी पीने के लायक नहीं होगा. जहां पर पंप हाउस के सफाई का काम किया जा रहा है वहां पर काफी दूर से ही दुर्गंध आ रही है. ऐसे  संबंधित अधिकारियों ने साफ कहा कि पानी पीने के लायक नहीं है. इसका उपयोग पीने के लिए नहीं करें. ऐसे में पिछले 8 सालों से इसी पानी को बागबेड़ा कॉलोनी के लोग पी रहे थे. पहली बार आम लोगों के आंदोलन के कारण ही टंकी की सफाई का काम शुरू कराया गया है. स्वच्छ और फिल्टरयुक्त पानी की सुविधा देने की मांग कॉलोनी के लोग कर रहे हैं. अन्यथा वे मासिक शुल्क 100 रुपये देने का भी विरोध कर रहे हैं.

इसे भी  पढ़ें-

Related Articles

Back to top button