Business

बुरे संकेत :  चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में और अधिक गहरा सकती है देश में आर्थिक मंदी : रिपोर्ट

New Delhi :  भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही में और अधिक मंदी में जा सकती है. एक रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया गया है.

डन एंड ब्रैडस्ट्रीट की ताजा आर्थिक समीक्षा रिपोर्ट में कहा गया है कि आय और रोजगार में कमी के साथ कोरोना वायरस महामारी के बाद भी काफी समय तक उपभोक्ता सतर्कता बरतेंगे. इससे उपभोक्ता मांग में सुधार में देरी होगी.

इसे भी पढ़ेंः #Congress के बेरमो विधायक राजेंद्र सिंह का निधन, पार्टी में शोक की लहर

advt

रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की आर्थिक वृद्धि में सुधार इस बात पर निर्भर करेगा कि सरकार की ओर से दिए गए प्रोत्साहन पैकेज को किस तरीके से कितने समय में क्रियान्वित किया जाता है.

डन एंड ब्रैडस्ट्रीट इंडिया के मुख्य अर्थशास्त्री अरुण सिंह ने कहा, ‘‘भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रोत्साहन उपायों का प्रभाव तीन प्रमुख पहलुओं….लॉकडाउन को हटाने की अवधि, पैकेज के क्रियान्वयन की क्षमता और इसमें लगने वाले समय पर निर्भर करेगा.’’

रिपोर्ट में हालांकि कहा गया है कि सरकार की ओर से दिए गए उम्मीद से बड़े पैकेज से आर्थिक गतिविधियों को फिर शुरू करने में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ेंः महाराष्ट्र के नांदेड़ में लिंगायत समाज के साधु की हत्या, आरोपी फरार

adv

डन एंड ब्रैडस्ट्रीट ने कहा कि इसके अलावा रिजर्व बैंक ने भी रेपो दर में 0.40 प्रतिशत की कटौती करने के साथ कर्ज की किस्त के भुगतान के पर रोक तीन माह और बढ़ा दी है. इससे भी अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने में मदद मिलेगी.

सिंह ने कहा कि सरकार ने जिन भी उपायों की घोषणा की है वे सकारात्मक हैं. ज्यादातर उपाय अर्थव्यवस्था के आपूर्ति पक्ष को मजबूत करने के बारे में हैं. लेकिन यह ध्यान देने की जरूरत है कि आपूर्ति के साथ-साथ मांग भी बढ़नी चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः कुछ अलग : अम्फान साइक्लोन ने दुनिया के सबसे पुराने बरगद को जड़ों से उखाड़ फेंका, भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण का प्रतीक रहा है पेड़

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button