न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जमशेदपुरः जेएमएम विधायक चंपई सोरेन के बेटे बाबूलाल सोरेन डिफॉल्टर साबित, संपति होगी जब्त

4,520

Abinash Misra

Jamshedpur:  कोल्हान टाईगर चंपई सोरेन के लिए उनके बेटे बाबूलाल सोरेन सरदर्द बन गये हैं. बाबूलाल सोरेन को कॉरपोरेशन बैंक साकची साखा ने डिफॉल्टर करार दिया है. बाबूलाल ने कॉरपोरेशन बैंक से करीब 36 लाख 50 हजार का कर्ज लिया था. जिसे उन्होंने नहीं चुकाया है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसकी शुरुआत समय पर ईएमआइ नहीं देने से हुई. बाद में ईएमआइ भी देना बंद कर दिया. अब बैंक उनकी संपति जब्त कर कर्ज की वसूली करेगी. कर्ज रिकवरी ट्रिब्यूनल के रजिस्ट्ररा ने बाबूलाल सोरेन को संपति जब्ती का सम्मन जारी कर दिया है.

समय पर ईएमआइ नहीं भरने पर बैंक ने डेब्ट रिकवरी ट्रिब्यूनल से इसकी शिकायत की थी. जिस पर संज्ञान लेते हुए ट्रिब्यूनल ने  सारयकेला जिले में उनके पैत़ृक गांव जिलिंगगोड़ा में उनकी संपति से कर्ज की भरपाई का आदेश दिया है.

इसे भी पढ़ेंः #EconomyRecession: जारी है उत्पादन में गिरावट, इंडस्ट्रियल सेक्टर का सात सालों का सबसे खराब प्रदर्शन

एक साल पहले हुई थी गिरफ्तारी

2018 लोकसभा चुनाव के दौरान भी जादूगोड़ा में पुलिस की स्पेशल टीम से उलझने के चलते बाबूलाल अरेस्ट हो चुके हैं. उस दौरान बाबूलाल सोरेन ने पुलिस को उनकी गाड़ी की तलाशी लेने से रोक दिया था.

गाली-गलौज करने के बाद वे वहां से भाग निकले थे. बाबूलाल की तलाश में पुलिस ने उनके घर और कई जगहों पर सघन छापेमारी की. लेकिन पुलिस उनको तलाश नहीं सकी. बाद में पुलिस ने बाबूलाल को ढाईभुमगढ इलाके से गिरफ्तार किया था.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02
Related Posts

बाबूलाल पर सरकारी काम में बाधा डालने का आरोप भी लगा था.

इसे भी पढ़ेंः #Jharkhand के 5245 प्राइवेट स्कूलों को फिर से लेनी होगी मान्यता, RTE संशोधन ने विद्यालयों की मुश्किलें बढ़ायी

विरोधी पार्टी के लिए बन सकता है मुद्दा

बाबूलाल सोरेन के डिफॉल्टर की खबर ने विरोधियों को मुद्दा दे दिया है. खास तौर से बीजेपी के पूर्व प्रत्याशी गणेश महली को, जो हमेशा चंपई सोरेन को निशाने पर रखते हैं.

पिछले विधानसभा चुनाव में भी गणेश महली ने बाबूलाल पर पिता के प्रभाव का इस्तेमाल कर सरकारी कामों में जबरन ठेका लेने और कमीशनखोरी का आरोप लगाया था. चुनाव में इसी मुद्दे को भुनाने की कोशिश की थी. इस बार भी गणेश महली मौके की ताक में हैं.

अगर उनको बीजेपी मौका देती है तो गणेश महली चंपई सोरेन की मुश्किलें बढ़ा सकते हैं.

इसे भी पढ़ेः कर्नाटक : कांग्रेस नेता व #FormerDeputyCMGParameshwara पर आयकर का शिकंजा, करीबी ने आत्महत्या की

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like