JharkhandRanchi

बाबूलाल ने CM को पत्र लिख कहा – BPL छात्रों की फीस भरे सरकार  

विज्ञापन

Ranchi : राज्य में शिक्षण संस्थानों में पैसे की कमी से बीपीएल कोटे की सीटें खाली रह जाती हैं. पॉलिटेक्निक, आइटीआइ, नर्सिंग, पैरामेडिकल और दूसरे टेक्निकल और वोकेशनल शिक्षण संस्थानों में ये शिकायतें आ रही हैं. इनमें अभी एडमिशन की जो व्यवस्था है, उनके लिए प्रैक्टिकल नहीं है.

पैसे की कमी से एडमिशन कराने से स्टूडेंट्स पीछे रह जाते हैं. भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने इस मसले पर राज्य सरकार को पत्र लिखा है. उन्होंने इसके निदान के लिए बीपीएल स्टूडेंट्स की पूरी फीस भरने की मांग सरकार से की है.

इसे भी पढ़ें –सरेंडर करने वाले 14 नक्सलियों को मिलेगा अनुदान, सीएम ने दी स्वीकृति, तीन को मिलेंगे चार-चार लाख रुपये

फीस भरने की चुनौती

बाबूलाल मरांडी ने सीएम हेमंत सोरेन को चिट्ठी लिखी है. इसमें कहा है कि पॉलिटेक्निक, आइटीआइ, नर्सिंग या अन्य संस्थानों में एडमिशन के लिए फीस जमा करना बीपीएल स्टूडेंट्स के लिए चुनौती है. सेमेस्टर की पूरी फीस का भुगतान मुश्किल से होता है.

ऐसे में गरीब परिवारों के बच्चों का एडमिशन ही नहीं हो पाता है. इससे संस्थानों में अक्सर सीटें खाली रह जाती हैं. अगर किसी तरह पैसे का जुगाड़ करके एडमिशन हो भी जाए तो कोर्स पूरा करना मुश्किल होता है. इससे चलते स्टूडेंट्स की पढ़ाई भी पूरी नहीं हो पाती. सरकार को अनुदान प्रक्रिया को सुधारना होगा. इसे व्यवहारिक और लाभकारी बनाना होगा.

इसे भी पढ़ें – OPINION: अमेरिका के जॉर्ज फ्लॉयड के साथ खड़े होने वाले भारतीयों को दिल्ली का फैज़ान याद होना चाहिए

एडमिशन में ही सरकार भरे पूरी फीस

बाबूलाल के अनुसार, अभी संस्थानों में स्टूडेंट्स से एडमिशन फीस जमा करा लिया जाता है. बाद में सरकार उन्हें स्कॉलरशिप के नाम पर कुछ राशि का भुगतान करती है. यह काफी नहीं होता है. जिस संस्थान में बीपीएल स्टूडेंट्स को एडमिशन लेना हो, उसकी पूरी फीस राज्य सरकार ही उस संस्थान को दे.

इससे लड़कियों और बीपीएलधारी स्टूडेंट्स को मदद सरकार से मिल सकेगी. इससे गरीब परिवारों पर लोड कम होगा. पैसे की कमी के कारण उनका एडमिशन नहीं रुकेगा. स्टूडेंट्स के लिए स्कॉलरशिप को बढ़ाना भी ठीक रहेगा. सरकार की पहल से स्टूडेंट्स का भविष्य संवरेगा.

इसे भी पढ़ें –JAC ने जारी किया 9वीं का रिजल्ट, एजुकेशन मिनिस्टर बोले- शिक्षा को लेकर पुरानी सरकार की नीयत सही नहीं

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close