न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बाबूलाल मरांडी कहते थे आखिरी सांस तक भाजपा से लड़ेंगे, उनका भाजपा में जाना झारखंडवासियों के साथ धोखा : सबा अहमद

झाविमो द्वारा विधायक बंधु तिर्की और प्रदीप यादव को पार्टी से निकाले जाने से पार्टी के कुछ वरीय नेताओं में असंतोष है. झाविमो के पूर्व केंद्रीय उपाध्यक्ष सबा अहमद ने कहा कि पार्टी को टुकड़ों में विभाजित होता देख तकलीफ हो रही है.

356

Ranchi :  झारखंड विकास मोर्चा द्वारा विधायक बंधु तिर्की और प्रदीप यादव को पार्टी से निकाले जाने से पार्टी के कुछ वरीय नेताओं में असंतोष है. झाविमो के पूर्व केंद्रीय उपाध्यक्ष सबा अहमद ने प्रेस बयान जारी कहा कि पार्टी को टुकड़ों में विभाजित होता देख काफी तकलीफ हो रही है. सबा ने कहा कि  2006 से बाबूलाल मरांडी और प्रदीप यादव के साथ मिलकर काम किया. जिसमें उन्होंने झारखंड की जमीन बचाने की लड़ाई पर अधिक फोकस किया. साथ ही झारखंड के गरीब गुरबा, किसान, आदिवासी, दलित, पिछड़े और अल्यपसंख्यकों को हक दिलाने का काम किया. सबा ने कहा कि तीनों ने एक साथ मिलकर राज्य के अलग अलग हिस्सों में घूम घूमकर काम किया.

इसे भी पढ़ें : #Bokaro: बिना कमर्शियल रजिस्ट्रेशन के कंपनियों में वाहन चलाने वालों पर जुर्माना लगाने की तैयारी

हमारी लड़ाई शुरू से भारतीय जनता पार्टी के विरोध में थी

झाविमो के भाजपा में विलय होने की अटकलें स्पष्ट होने पर कहा कि यह काफी अचंभित करने वाली बात है. बाबूलाल कहते थे आखिरी सांस तक भाजपा से लड़ेंगे. सबा ने कहा कि हमारी लड़ाई शुरू से भारतीय जनता पार्टी के विरोध में थी. जो झारखंड में शासक और शोषक के रूप में थी. ऐसे में बाबूलाल का एकाएक भाजपा में जाने का निर्णय आश्चर्यचकित करने वाला है. उन्होंने कहा कि कभी कभार अकेले में बाबूलाल मरांडी से बात हुआ करती थी. वो कहा करते थे आखिरी सांस तक भाजपा से लड़ेंगे. लेकिन कभी भाजपा से हाथ नहीं मिलायेंगे.

इसे भी पढ़ें : #Raghubar सरकार ने 2018-2019 में सिर्फ 6859 कौशल प्रशिक्षित व्यक्तियों को दी नौकरी, 1 लाख का था दावा

hotlips top

झारखंड विकास मोर्चा के अधिकांश समर्थक दुखी हैं

मरांडी का कहना था कि पद और प्रतिष्ठा के लिए नहीं लड़ते. आज लगता है कि सारी चीजें धरी की धरी रह गयीं. बाबूलाल मरांडी के इस निर्णय से झारखंड विकास मोर्चा के अधिकांश समर्थक दुखी हैं.  सबा अहमद ने लिखा है कि बाबूलाल मरांडी के इस निर्णय को हम झारखंडवासियों के साथ धोखा मानते हैं. बता दें कि इसके पूर्व सबा अहमद को केंद्रीय समिति में शामिल नहीं किया गया था.

इसे भी पढ़ें : पूर्व मंत्री अमर बाउरी से पहले विधायक बिरंची नारायण के सरकारी आवास में जबरन घुसे थे जेएमएम कार्यकर्ता

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like