1st LeadJharkhandRanchiTOP SLIDER

2 सालों में भी बाबूलाल मरांडी को नहीं मिला विपक्ष के नेता का दर्जा, शिकायत लेकर राजभवन पहुंची भाजपा

Ranchi : झारखंड विधानसभा अध्यक्ष द्वारा भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी को 2 साल बाद भी अब तक नेता प्रतिपक्ष नहीं बनाया गया है. इसे लेकर प्रदेश भाजपा आक्रोशित है. पार्टी ने आज भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश की अध्यक्षता में पार्टी कार्यालय में भाजपा विधायक दल एवं सांसदों की महत्वपूर्ण बैठक हुई. केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, क्षेत्रीय संगठन मंत्री नागेंद्र त्रिपाठी सहित अन्य नेताओं ने भी बाबूलाल को नेता प्रतिपक्ष नहीं बनाये जाने पर नाराजगी जाहिर की.

इसके बाद दीपक प्रकाश के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल रमेश बैस से मुलाकात की. ज्ञापन सौंपा. इसके बाद मीडिया से दीपक प्रकाश ने कहा कि झारखंड विधानसभा अध्यक्ष ने लोकतंत्र की हत्या की है. अब तक बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष नहीं बनाया है. राज्य सरकार के इशारे पर विधानसभा अध्यक्ष निर्णय नहीं ले रहे हैं. यह सरकार सदन को संवैधानिक प्रक्रियाओं से नहीं, बल्कि तानाशाह की तरह चलाना चाहती है.

बगैर नेता प्रतिपक्ष के चल रहा सदन

Catalyst IAS
ram janam hospital

दीपक प्रकाश ने कहा कि झारखंड सरकार गठन के 26 महीने बीत चुके हैं, परंतु सदन की कार्यवाही बिना नेता प्रतिपक्ष के चलाई जा रही है. भारतीय जनता पार्टी ने सर्वसम्मति से राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री एवं राजधनवार के विधायक बाबूलाल मरांडी को पार्टी के विधायक दल का नेता चुना है. इसकी विधिवत सूचना विधानसभा अध्यक्ष को दी जा चुकी है. परंतु यह राज्य के लिये दुर्भाग्यपूर्ण है कि 2 साल से ज्यादा बीत जाने के बाद भी बाबूलाल को विधानसभा अध्यक्ष द्वारा नेता प्रतिपक्ष का दर्जा नहीं दिया गया है. नेता प्रतिपक्ष के अभाव में राज्य के महत्वपूर्ण विधायी कार्य एवं संवैधानिक नियुक्तियां प्रभावित हैं. राज्यपाल से इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने का अनुरोध किया गया है.

 

The Royal’s
Sanjeevani

बैठक में उपस्थिति

आज की बैठक एवं प्रतिनिधिमंडल में सांसद पीएन सिंह, सुदर्शन भगत, विद्युतवरण महतो, बीडी राम, संजय सेठ, सुनील सोरेन, समीर उरांव, विधायक सीपी सिंह, नीलकंठ सिंह मुंडा, प्रदेश महामंत्री आदित्य साहू, बालमुकुन्द सहाय, विधायक विरंची नारायण, अनंत ओझा, केदार हाजरा, डॉ नीरा यादव, राज सिन्हा, अमर बाउरी, नवीन जायसवाल, कोचे मुंडा, मनीष जायसवाल, अमित मंडल, ढुल्लू महतो, नारायण दास, आलोक चौरसिया, समरी लाल, जेपी पटेल, किशुन दास, अपर्णा सेन गुप्ता,  शशिभूषण मेहता, पुष्पा देवी, भानु प्रताप शाही, रणधीर सिंह भी शामिल थे.

 

इसे भी पढ़ें : पलामू : रोमानिया बॉर्डर पर फंसा मेदिनीनगर का युवक, एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए गया है यूक्रेन

Related Articles

Back to top button