Main SliderNational

कोरोनिल पर बाबा रामदेव ने दी सफाई, क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल का दावा

Haridwar: पतंजलि की कोरोनिल दवा पर हुए विवाद को लेकर योग गुरु बाबा रामदेव सफाई दी है. प्रेस कॉन्फेंस कर बाबा रामदेव ने कहा है कि उनकी दवा के खिलाफ गंदा वातावरण बनाया गया. उनका कहना है कि ड्रग माफियाओं और मल्टीनेशनल कंपनियों ने दवा का दुष्प्रचार किया.

ऐसे लोग अपने फायदों के लिए योग, स्वदेशी और भारतीयता के खिलाफ माहौल बनाना चाहते हैं. बता दें कि 23 जून को बाबा रामदेव ने कोरोना की दवा लॉन्च की थी, लेकिन उसके पांच घंटे बाद ही आयुष मंत्रालय ने उसके प्रचार पर रोक लगा दी थी.

इसे भी पढ़ेंःइंसानों से जानवरों में फैल रहा कोरोना? कर्नाटक में चरवाहे के पॉजिटिव होने के बाद 47 बकरियां क्वारेंटाइन

हमने क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल किया

दवाई पर सफाई देते हुए योगगुरु ने कहा कि हमारे खिलाफ केस दर्ज कराए गए. मेरे धर्म, जाति और संन्यास पर सवाल उठाए गए. चंद लोगों ने गंदा वातावरण बनाने की कोशिश की है. साथ ही बाबा रामदेव ने दावा किया कि कोरोनिल के काम पर आयुष मंत्रालय ने हमारे प्रयासों को सराहा है. बाबा रामदेव ने कहा कि क्लीनिकल ट्रायल और रजिस्ट्रेशन दोनों प्रक्रिया में नियमों का पालन किया गया है.

बाबा रामदेव ने बताया, ”आयुष मंत्रालय ने कहा है कि पतंजलि ने कोविड-19 के मैनेजमेंट के लिए पर्याप्त काम किया है यानी अच्छी पहल की है. पतंजलि ने एक सही दिशा में काम करना शुरू किया है.”

बाबा रामदेव ने बताया कि उन्होंने कोरोना पर क्लीनिकल कंट्रोल का ट्रायल किया है. उन्होंने कहा कि क्लीनिकल ट्रायल के प्रोटोकॉल हमने नहीं बल्कि मेडिकल एक्सपर्ट ने बनाए, उसी के आधार पर हमने रिसर्च किया. बाबा रामदेव ने बताया कि क्लीनिकल ट्रायल के जो भी पैरामीटर्स हैं, उनके तहत हमने रिसर्च की है. इसके अलावा 10 से ज्यादा बीमारियों पर हम ट्रायल कर रहे हैं और उसमें तीन लेवल पार कर चुके हैं. इसमें हापरटेंशन, अस्थमा, हार्ट, चिकुनगुनिया जैसे रोग शामिल हैं, जिन पर हम ट्रायल कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःLAC पर युद्ध जैसे हालात के बीच PoK में पाकिस्तान ने बढ़ाई सेना, टू फ्रंट वॉर की तैयारी?

23 जून को लॉन्च की थी दवा

उल्लेखनीय है कि रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने 23 जून को कोरोना का इलाज ढूंढने का दावा करते हुए कोरोनिल दवा लॉन्च की थी. बाबा रामदेव ने दावा किया था कि कोरोनिल के ट्रायल में 7 दिन में कोरोना के मरीज पूरी तरह रिकवर हो गए. लेकिन दवा लॉन्च होने के 5 घंटे बाद ही केंद्र ने कहा कि पतंजलि के इस दावे के फैक्ट और वैज्ञानिक तथ्यों की जानकारी नहीं है. आयुष मंत्रालय ने कहा कि पतंजलि इस दवा की जानकारी दे और हमारी जांच पूरी होने तक इसका प्रमोशन और विज्ञापन ना करे.

इसे भी पढ़ेंःLAC पर युद्ध जैसे हालात के बीच PoK में पाकिस्तान ने बढ़ाई सेना, टू फ्रंट वॉर की तैयारी?

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close