JharkhandLead NewsNEWSRanchi

B.ed Admission : दो साल के कोर्स में एडमिशन के लिए 180 दिन चला काउंसेलिंग, फिर भी 40 फीसदी सीटें खाली

झारखंड के निजी बीएड कॉलेजों को नहीं मिले स्टूडेंट्स, अब ओपन एडमिशन की मांग

Ranchi : राज्य के सात स्टेट यूनिवर्सिटी सहित अन्य प्राइवेट यूनिवर्सिटी के 136 बीएड कॉलेजों को स्टूडेंट्स नहीं मिले. स्टूडेंट्स नहीं मिलने वाले बीएड कॉलेजों में निजी बीएड कॉलेजों की संख्या 80 फीसदी है. इन 80 फीसदी बीएड कॉलेजों में 40 फीसदी सीटें खाली रह गयी हैं. जबकि सत्र 2020-22 में एडमिशन लिए पिछले 180 दिन यानी 6 महीने से काउंसेलिंग चलती रही. स्टूडेंट्स नहीं मिल पाने की वजह से अब राज्य के निजी कॉलेज सरकार से ओपन एडमिशन लेने की अनुमति मांग रहे हैं. बताते चलें कि राज्य में बीएड कोर्स दो साल का होता है. कोरोना की वजह से एडमिशन में रोक लगायी गयी थी. एडमिशन के लिए जनवरी महीने से ही काउंसेलिंग चल रही थी. 17 जून को एडमिशन की प्रक्रिया समाप्त हुई है.

इसे भी पढ़ेंःमहंगाई की मारः बिहार में भी पेट्रोल ने लगाया शतक, रांची में 94 के पार  

136 बीएड कॉलेजों में हैं 13 हजार से अधिक सीटें

राज्य में कुल 136 बीएड कॉलेज हैं. इन बीएड कॉलेजों में 13 हजार से अधिक सीटें हैं. बीएड कॉलेजों की संख्या की बात करें तो सबसे ज्यादा बीएड कॉलेज विनोबा भावे विश्वविद्यालय में है. यहां 30 बीएड कॉलेज हैं. वहीं जानकारी के मुताबिक रांची विवि में 29, नीलांबर-पीतांबर विवि में 12, कोल्हान विवि में 16, सिदो-कान्हू मुर्मू विवि में 16 और विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि में 26 बीएड कॉलेज हैं.

23 जनवरी से शुरू हुई एडमिशन प्रक्रिया

इनमें एडमिशन के लिए 23 जनवरी से पहले राउंड की काउंसेलिंग शुरू हुई थी. दूसरे राउंड की काउंसेलिंग तीन फरवरी से रजिस्ट्रेशन पांच फरवरी तक चला. इसके बाद 20 फरवरी तक एडमिशन लेने को कहा गया. तीसरे राउंड की काउंसेलिंग के लिए तीन से 10 मार्च तक प्रक्रिया चली. इस प्रक्रिया के बाद 20 मार्च एडमिशन लेने को कहा गया. चौथे राउंड की काउंसेलिंग 26 मार्च से 30 मार्च तक चला. इस राउंड के सेलेक्टेड स्टूडेंट्स को 10 अप्रैल तक एडमिशन लेने को कहा गया. चार राउंड की काउंसेलिंग के बाद भी स्टूडेंट्स नहीं मिले तब झारखंड कम्बाइंड के स्पेशल राउंड काउंसेलिंग करायी. यह स्पेशल राउंड 15 से 18 अप्रैल तक चला. स्पेशल राउंड का एडमिशन 17 जून तक लिया गया.

इसे भी पढ़ेंःJharkhand के 43 प्रखंडों में बीडीओ नहीं, विकास कार्य प्रभावित

साल 2019 में एडमिशन प्रोसेस में हुआ बदलाव

राज्य के 136 बीएड कॉलेजों में एडमिशन की प्रक्रिया में साल 2019 में बदलाव किया गया था. साल 2019 से पहले तक राज्य के सरकारी बीएड कॉलेजों में अलग-अलग आवेदन आते थे. उसके बाद आवेदक के अंकों के आधार पर मेरिट लिस्ट जारी की जाती थी. वहीं निजी बीएड कॉलेजों में भी कुछ इसी तरह की प्रक्रिया अपनायी जाती थी. साल 2019 से सभी बीएड कॉलेजों में एडमिशन के लिए ज्वाइंट एंट्रेंस टेस्ट लिये जाने लगे. यह ज्वाइंट एडमिशन टेस्ट झारखंड कंबाइंड की ओर से लिए जाते हैं. इसी टेस्ट के रैंक के आधार पर काउंसलिंग की जाती है. लेकिन साल 2020 के लिए झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड ने कोरोना की वजह से टेस्ट नहीं लिया. इस साल एडमिशन टेस्ट के लिए भेजे गये आवेदन में आवेदक के स्नातक में प्राप्त अंक के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार कर एडमिशन लिया जा रहा है.

Advt

Related Articles

Back to top button