न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अजीम प्रेमजी एशिया के दानवीर कर्ण, अबतक 1.45 लाख करोड़ रुपये कर चुके हैं दान

73 वर्षीय प्रेमजी का नाम विश्व के बड़े प्रभावशाली मानवतावादी बिल गेट्स, वॉरने बफेट और जॉर्ज सोरोस संग शुमार हो गया है.

24

NewDelhi :  सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) क्षेत्र के उद्यमी एवं समाजसेवी अजीम प्रेमजी एशिया के सबसे बड़े दानी बन गये हैं.  अपनी कंपनी के अतिरिक्त 34% शेयर को दान करने का फैसला किया है. बता दें कि अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के जरिए वे अबतक कुल 1.45 लाख करोड़ रुपये (21 बिलियन डॉलर) दान कर चुके हैं. भारत के सबसे उदार अरबपति, अजीम प्रेमजी ने परोपकार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता एक बार फिर साबित कर दी है.  अब 73 वर्षीय प्रेमजी का नाम विश्व के बड़े प्रभावशाली मानवतावादी बिल गेट्स, वॉरने बफेट और जॉर्ज सोरोस संग शुमार हो गया है. खबरों के अनुसार बुधवार को अजीम प्रेमजी ने घोषणा की कि वह अपनी कंपनी के शेयरहोल्डिंग का अतिरिक्त 34% परोपकार के लिए देंगे. इस हिसाब से 52,750 करोड़ रुपए की दान राशि बनती है जो अजीम प्रेम जी फाउंडेशन को ट्रांसफर की जायेगी.

प्रेम जी के इस कार्य पर रोहिणी नीलेकणी ने कहा कि उनके ऐसा करने से सभी का लक्ष्य बढ़ गया है. जान लें कि नंदन नीलेकणी ने भी अपनी आधी संपत्ति दाने देने को कहा है. नीलेकणी ने कहा कि प्रेमजी ने जो किया है उसके लिए बड़ा दिमाग चाहिए. उनके ऐसा करने से वह वाकई भारतीय समाज में उपल्बध जटिल समस्यों के बारे में पता लगा पायेंगे और उनका समाधान भी बता पायेंगे.

इसे भी पढ़ेंःआतंकी अजहर मामले पर कांग्रेस का तंजः विफल विदेश नीति फिर उजागर, काम नहीं आयी हगप्लोमेसी

2014 के बाद से भारत में दान देने वाले लोगों में कमी

बेन एंड कंपनी ने हाल ही में जारी अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि 2014 के बाद से भारत में दान देने वाले लोगों में कमी आयी है.  बेंगलुरू की कंपनी मोगुल के दान को छोड़ दें तो 10 करोड़ या उससे अधिक की आर्थिक मदद करने वाले लोगों में 2014 के बाद से चार  प्रतिशत की कमी आयी है.  वहीं 50 मिलियम तक की संपत्ति वाले लोगों की संख्या 12 प्रतिशत का इजाफा हुआ है; बेन कैपिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर अमित चंद्रा का कहना है कि अजीम प्रेम जी दान की यह प्रवृत्ति जमशेदजी टाटा और डोराबजी टाटा से मिलती है. बता दें कि  प्रेमजी का यह  फाउंडेशन बेंगलुरू में अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी भी चलाता है. जल्द ही इस यूनिवर्सिटी को 5 हजार छात्रों और 400 शिक्षकों की क्षमता वाला बनाया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःममता की पीएम मोदी को चुनौती, यदि हिम्मत है, बंगाल से चुनाव लड़ कर दिखायें…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: