न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विवादित बयान पर आजम खां को रमा देवी से मांगनी होगी माफी, नहीं तो कार्रवाई संभव

स्पीकर ओम बिरला ने विभिन्न दलों के नेताओं के साथ की बैठक, सांसद के माफी मांगने पर बनी सहमति

860

New Delhi: बीजेपी सांसद रमा देवी पर विवादित बयान देकर सपा सांसद आजम खां की मुश्किलें बढ़ गयी है. सपा सांसद को अपनी आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए माफी मांगनी होगी.

सोमवार को लोकसभा में आजम खां के विवादित बयान को लेकर सदस्यों के विरोध जताने के बाद, मामले को लेकर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने विभिन्न दलों के नेताओं के साथ बैठक की.

बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि सपा सांसद को अपने बयान के लिए माफी मांगनी होगी. इन दलों का कहना है कि स्पीकर, सपा सांसद से माफी मांगने को कहेंगे. अगर आजम खां ऐसा नहीं करते हैं उनके खिलाफ कार्रवाई का विकल्प खुला रहेगा.

इसे भी पढ़ेंःसोहराय भवन CNT उल्लंघन मामला : 20 दिन बाद भी राजू उरांव तक नहीं पहुंचा नोटिस

हो सकती है कार्रवाई

अपने बयान पर सपा सांसद अगर माफी नहीं मांगते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई संभव है. जानकारों की मानें तो इस तरह के मामले में सांसद का बयान रिकॉर्ड से निकाला जाता है, जो निकाल दिया गया है.

ऐसे में स्पीकर आजम खां को माफी मांगने को कहेंगे. अगर वह नहीं मांगते हैं उनको उस दिन की कार्यवाही से बाहर किया जा सकता है. और अगर सदन को लगता है कि गलत शब्द उपयोग किए गए थे और उनको रिकॉर्ड से हटा देने और माफी मांगने से गलती दूर नहीं होती है तो संसदीय कार्य मंत्री कुछ दिनों के लिए सस्पेंड करने का प्रस्ताव कर सकते हैं.

Related Posts

#RSS Chief मोहन भागवत 24 सितंबर को विदेशी मीडिया से चर्चा करेंगे, पाकिस्तान की नो इंट्री

यह भागवत द्वारा एक अनौपचारिक बैठक होगी, जिसके प्रकाशन या प्रसारण की इजाजत नहीं होगी.

इसे भी पढ़ेंःतीन साल में 23 गुना रिटर्न देने का दावा कर लोगों से पैसे इन्वेस्ट करा रहा झारखंड सरकार से MoU करने वाला SkyWay Group

सांसदों ने एक सुर में की आलोचना

पीठासीन सभापति रमा देवी के खिलाफ टिप्पणी पर सपा सदस्य आजम खां की सदन के सांसदों ने तीखी आलोचना की. हालांकि, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उनका बचाव किया.

लेकिन बाकी सांसदों और खासकर महिला सांसदों ने आजम खां के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने की मांग की है.

शुक्रवार को कहा कि विभिन्न दलों के नेताओं की राय है कि यह संदेश जाना चाहिए कि महिलाओं की गरिमा और सम्मान को ठेस पहुंचाने वाली इस तरह की कार्रवाई के प्रति लोकसभा का रवैया कतई बर्दाश्त नहीं करने वाला है.

इसे भी पढ़ेंःPLFI के नाम पर लेवी वसूलने वाले गिरोह के चार संदिग्ध गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: