न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रेम प्रसंग में की गयी थी आयुष की हत्‍या, दो गिरफ्तार

हत्‍या के लिए अपने दोस्‍तों को चंदन ने दी थी 50 हजार की सुपाड़ी

119

Palamu :  पिछले तीन अक्टूबर को पलामू उपायुक्त आवास के निकट हुई हत्‍या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. कांडू मोहल्ला निवासी आयुष की अपराधियों ने गोली मारकर हत्‍या कर दी थी. हत्याकांड में शामिल चंदन कुमार एवं रोहित कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, दोनों भाई हैं. दोनों ने अपना गुनाह भी कबूल कर लिया है. मामले में अभी मुख्य अभियुक्त की गिरफ्तारी नहीं हो पायी है,जिसने घटना को अंजाम दिया है. पुलिस ने अभी तक उसका नाम का खुलासा नहीं किया है.

इसे भी पढ़ें :नरेंद्र सिंह होरा की हत्या के विरोध में सिख समुदाय के लोगों ने सुजाता चौक किया जाम

लड़की के भाई ने कहा था बहन से दूर रहने के लिए

रविवार की दोपहर एक प्रेसवार्ता में पलामू एसपी इंद्रजीत मेहता ने बताया कि मामला पूर्णता: प्रेम प्रसंग से जुड़ा हुआ है. आयुष का प्रेम प्रसंग सुरेंद्र कुमार शाह की पुत्री से लगभग 4 वर्षों से चल रहा था. जिसके लिए मृतक को मना भी किया गया था, लेकिन उसमें कोई सुधार नहीं था. इससे सुरेंद्र शाह के पुत्र चंदन कुमार काफी आहत था. चंदन कुमार ने अपने स्कूल में पढ़ने वाले अपराधी मित्र से संपर्क किया. आयुष को रास्ते से हटाने के लिए 50  हजार में सौदा का डील हुआ. एडवांस के रूप में दस हजार नगद दिया गया. बाकी की रकम घटना के बाद देने की बात थी. घटना के दिन दोनों मिले और उपायुक्त आवास के चारदीवारी के सामने फुटपाथ पर दुकान लगाने वाले आयुष उर्फ शशि को जो उसी समय अपना गोली मारकर दोनों तिनकोनिया गैरेज की ओर भाग गए.

इसे भी पढ़ें :नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड में पुलिस को मिले कुछ अहम सुराग, जल्द हो सकती है आरोपी की…

दुकान समेट ही रहा था कि अपराधियों ने मार दी थी गोली

मृतक कोनिया गैरेज के निकट फुटपाथ पर चप्पल जूते और कपड़े का दुकान लगाता था. वह अपना दुकान समेट ही रहा था कि अचानक दोनों ने आकर उसको गोली मार दी. एसपी ने जानकारी देते हुए बताया कि घटना का उदभेदन व अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर एक टीम गठित गई की गई. जिस का संचालन पुलिस उपाधीक्षक प्रेम नाथ कर रहे थे. टीम में पुलिस निरीक्षक तरुण कुमार शहर थाना प्रभारी आनंद कुमार मिश्रा, महिला थाना प्रभारी दुलर्ड चौड़े एवं टाइगर मोबाइल के लोग शामिल थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: