न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Australia : मीडिया पर प्रतिबंधों के विरोध में अखबारों ने खाली छोड़ा पहला पेज

683

New Delhi : राष्ट्रीय सुरक्षा कानूनों और प्रेस की आजादी के हनन के विरोध में ऑस्ट्रेलिया के सभी अखबारों ने सोमवार को अपने फ्रंट पेज को काला छापा.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, द ऑस्ट्रेलियन, द सिडनी मॉर्निंग और ऑस्ट्रेलियन फाइनेंशियल रिव्यू सहित राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अखबारों ने अपने फ्रंट पेज को काला छापकर एकता का प्रदर्शन किया है.

Sport House

इसे भी पढ़ें : बांस कारीगारी और व्यापार को कैसे सफल बनायेगी सरकार, प्रशिक्षण देने वाली एजेंसी ‘इसाफ’ साथ ले गयी सारा उत्पाद

क्या है मामला

ऑस्ट्रेलियाई सरकार की किरकिरी कराने वाले दो लेखों के प्रकाशित होने के बाद इसी साल जून में ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन (एबीसी) के मुख्यालय और न्यूज कॉर्प के एक पत्रकार के घर पर छापेमारी हुई थी.

उसी के बाद ऑस्ट्रेलिया के ‘राइट टू नो कोएलिशन’ अभियान के तहत अखबारों ने यह कदम उठाया है.

Mayfair 2-1-2020

प्रेस की छह मांगें

Related Posts

शेख हसीना ने कहा,  #CAA_NRC भारत का आंतरिक मामला, पर जरूरत समझ में नहीं आयी

बांग्लादेश की पीएम ने इस बात से भी साफ इनकार किया कि उनके देश से धार्मिक उत्पीड़न के चलते अल्पसंख्यक समुदाय के लोग भारत पलायन कर रहे हैं.

प्रेस की छह मांगें हैं, जिनमें से पत्रकारों को सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानूनों से छूट देना भी शामिल है क्योंकि उनके मुताबिक इस कानून की वजह से उन्हें लोगों तक जानकारियां पहुंचाने में दिक्कत हो रही है.

इसे भी पढ़ें :खूंटी में राजनीति से जुड़े लोगों की लगातार की जी रही हत्या, अपराधी और नक्सली बना रहे निशाना

सरकार का पक्ष

अखबारों के विरोध पर सरकार का कहना है कि वह प्रेस की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं लेकिन कोई भी कानून से ऊपर नहीं है.

रविवार को ही ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने कहा कि छापेमारी के बाद तीन पत्रकारों पर मुकदमा चल सकता है. प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि प्रेस स्वतंत्रता ऑस्ट्रेलिया के लोकतंत्र के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन कानून को बरकरार रखने की जरूरत है.

दो वर्षों में 22 कानून पारित

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऑस्ट्रेलियाई संसद ने पिछले 20 सालों में गोपनीयता और जासूसी से संबंधित 60 से अधिक कानून पारित किये हैं. पिछले दो वर्षों में  22 कानून पारित किये गये हैं.

इसे भी पढ़ें :क्या है पत्थलगड़ी का गुजरात-राजस्थान कनेक्शन, समर्थक अभिवादन में ‘जोहार’ की जगह कहते हैं ‘पितु की जय’

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like