न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

औरंगाबाद नक्सली हमला : नोटबंदी में नक्सलियों ने भाजपा एमएलसी को पांच करोड़ दिये थे बदलवाने, डकार गये तो हुआ हमला

औरंगाबाद में हुए नक्सली हमले की जड़ में वह पांच करोड़ रपये थे, जो नोटबंदी के समय  नक्सलियों ने भाजपा एमएलसी को बदलवाने के लिए दिये थे.

708

Patna :  औरंगाबाद में हुए नक्सली हमले की जड़ में वह पांच करोड़ रपये थे, जो नोटबंदी के समय  नक्सलियों ने भाजपा एमएलसी को बदलवाने के लिए दिये थे.  बता दें कि नक्सलियों ने आरोप लगाया है कि एक भाजपा एमएलसी ने उनके पांच करोड़ रुपए नहीं लौटाये, जो बदलवाने के लिए दिये गये थे. नक्सलियों के अनुसार वे काफी समय से पैसे लौटाने में आनाकानी कर रहे थे, इसलिए उन्होंने उनके घर पर धावा बोल दिया, इस हमले में आधा दर्जन गाड़ियों को फूंक दिया गया था. हमले में एमएलसी राजन सिंह के चाचा की गोली मारकर हत़्या कर दी गयी थी. पुलिस के अनुसार घटना स्थल पर नक्सली एक पर्चा छोड़कर गये थे, जिसमें लिखा था कि नोटबंदी के दौरान में भाजपा के बिहार विधान परिषद सदस्य राजन कुमार सिंह को पांच करोड़ रुपए बदलने के लिए दिये थे. सिंह ने वह रुपए अभी तक नहीं लौटाये. साथ ही पर्चा में लिखा था कि लेवी के रूप में अलग से दो करोड़ रुपए की वसूली हुई थी, जो राजन सिंह के पास ही थे, वो पैसे भी नहीं लौटाये गये.

राजन सिंह ने नक्सलियों के आरोपों को खारिज किया

इस पर्चे के सामने आने के बाद सिंह ने इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि नक्सली मेरे खिलाफ दुष्प्रचार करने में लगे हैं. इस क्रम में उन्होंने बताया कि नक्सली हमले की आशंका को लेकर वे सीएम नीतीश कुमार और राज्य के पुलिस महानिदेशक से  सुरक्षा की गुहार लगा लगा चुके हैं. कहा कि अगर वे नक्सली समर्थक होते तो उनकी पहले भी गाड़ियां जलाई गयी हैं, वो नहीं जलाई जाती.  पर्चे में राजन सिंह की चल-अचल संपत्ति को ध्वस्त करने का ऐलान किया गया है. यह भी कहा गया है कि हमारी लड़ाई भाजपा और संघ के आम कार्यकर्ताओं और उनके परिवारों से नहीं है. जान लें कि शनिवार देर रात बिहार के औरंगाबाद जिले के देव में नक्सलियों ने हमला कर भाजपा के विधान पार्षद राजेंद्र कुमार सिंह के चाचा की गोली मारकर हत्या कर दी. साथ ही छह गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था. एक सामुदायिक भवन को भी विस्फोट कर उड़ा दिया गया था. नक्सलियों ने 100 से ज्यादा राउंड फायरिंग भी की थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: