न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अटल बिहारी वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक,  फुल लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर पूर्व प्रधानमंत्री

देशभर में दुआओं का दौर जारी

736

NewDelhi: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत बेहद गंभीर बनी हुई है और उन्हें फुल लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर पर रखा गया है. पिछले 24 घंटे में पूर्व प्रधानमंत्री के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हुआ है. डॉक्टर्स की टीम लगातार अटल बिहारी के स्वास्थ्य पर नजर बनाये हुए है. खबर है कि कुछ देर में एम्स की ओर से वाजपेयी का नया हेल्थ बुलेटिन जारी किया जाएगा. इधर गुरुवार सुबह ही उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू वाजपेयी का हाल जानने पहुंचे. साथ ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी वाजपेयी को देखने पहुंचे हैं.

इसे भी पढ़ेंःजहां से सरकार ने कई पायलट प्रोजेक्ट शुरू किये, वहां न सड़क है, न बिजली और न पानी

11 जून से एम्स में भर्ती अटल बिहारी

hosp3

भारतीय जनता पार्टी के 93 वर्षीय दिग्गज नेता को किडनी ट्रैक्ट इंफेक्शन, यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन, पेशाब आने में दिक्कत और सीने में जकड़न की शिकायत के बाद 11 जून को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, दिल्ली (एम्स) में भर्ती कराया गया था. एम्स ने बुधवार रात एक बयान में कहा कि ‘दुर्भाग्यवश, उनकी हालत बिगड़ गई है. उनकी हालत गंभीर है और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है.’  एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम लगातार वाजपेयी के स्वास्थ्य पर नजर रखे हुए है. लेकिन, पिछले 24 घंटे में उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ है.

बुधवार शाम पूर्व पीएम से मिलने पहुंचे मोदी

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और बीजेपी के दिग्गज नेता की तबीयत बिगड़ने की खबर मिलते ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार शाम करीब सवा सात बजे वाजपेयी का हालचाल जानने के लिए एम्स गये थे. मोदी के अलावा रेल मंत्री पीयूष गोयल और भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी भी वाजपेयी का कुशक्षेम जानने अस्पताल पहुंचे थे.

वही बुधवार रात में केन्द्रीय मंत्री सुरेश प्रभु, जितेन्द्र सिंह, हर्षवर्द्धन और शाहनवाज हुसैन सहित कई नेता और मंत्री अस्तपाल गये थे. इससे पहले केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी भी वाजपेयी का हाल जानने अस्पताल गयी थीं.

मधुमेह से ग्रस्त वाजपेयी की एक ही किडनी काम करती है. 2009 में उन्हें आघात आया था, जिसके बाद उन्हें लोगों को जानने-पहचानने की समस्याएं होने लगीं. बाद में उन्हें डिमेशिया की दिक्कत हो गयी. उल्लेखनीय है कि अटल बिहारी वाजपेयी पिछले नौ सालों से सक्रिय राजनीति से दूर हैं.

इधर पूर्व पीएम और भारत रत्न वाजपेयी की तबीयत बिगड़ने से देशभर में दुआओं का दौर जारी है. हर कोई अटल बिहारी के जल्द स्वस्थ होने की कामना कर रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: