न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आखिरी समय में सरकार को किसानों की याद आ रही, किसान ही सरकार को सत्ता से हटायेंगे : वृंदा करात

124

Latehar : मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात ने शुक्रवार को चंदवा प्रखंड में प्रेसवार्ता का आयोजन किया. इसमें उन्होंने कहा कि किसानों और मजदूरों को राहत मिलने के बजाय उनकी परेशानी और बढ़ गयी है. सरकार हर मोर्चे पर विफल है. उन्होंने कहा कि किसानों व बेरोजगारों से भाजपा द्वारा चुनाव पूर्व किये वादे का हश्र आज जनता के सामने है. सरकार ने नौकरी दी नहीं, महिलाओं को सुरक्षा नहीं दी, दलितों और आदिवासियों पर हमले हो रहे हैं. विदाई के समय पर सरकार को किसान याद आ रहे हैं. किसानों को देना ही था, तो सत्ता संभालते ही क्यों नहीं दिया सरकार ने?

mi banner add

बजट के नाम पर छलने की कोशिश

वृंदा करात ने कहा कि बजट के नाम पर छलने की कोशिश की गयी है. अगर सरकार को बजट के नाम पर किसानों को कुछ देना था, तो सत्ता में आते ही क्यों नहीं दिया? अब जब सरकार जनता की मंशा जान चुकी है, तो बजट में किसानों के लिए अलग से योजनाएं बनायी जा रही हैं. भाजपा ध्रुवीकरण के सहारे चुनाव जीतना चाहती है, लेकिन इस बार सत्ता से सरकार का हटना तय है.

45 सालों में सबसे अधिक बेरोजगारी

उन्होंने कहा कि सरकार की गलत नीतियों की वजह से महंगाई आसमान छू रही है. किसान बदहाल हैं. हर वर्ग में असंतोष है. पिछले 45 सालों में सबसे अधिक बेरोजगारी हुई है. यह मोदी की मार का ही असर है. अवाम बुरी तरह त्रस्त है, देश की जनता ने मोदी सरकार को हटाने का निर्णय ले लिया है.

एक इंच भी जमीन नहीं दी जायेगी

Related Posts

जेजेएमपी ने किया 21 जुलाई को झारखंड बंद का एलान

लातेहार जिले में सक्रिय किसी उग्रवादी संगठन ने लंबे समय बाद बंद बुलाया है.

इसी क्रम में शुक्रवार को ही वृंदा करात चतरा पहुंचीं. वहां पार्टी की ओर से आयोजित वन भूमि पर गरीबों को पट्टा दो की मांग को लेकर आम सभा का आयोजन किया गया था. इसे संबोधित करते हुए करात ने कहा कि जमीन का एक इंच भी सरकार को नहीं लेने दिया जायेगा. 80-90 सालों से वन पट्टा को लेकर संघर्षरत हैं, लेकिन कोई सुननेवाला नहीं. उन्होंने कहा कि अब किसानों और मजदूरों के एकजुट होने का समय आ गया है. दुनिया का पेट पालनेवाले किसान अपनी जमीन से कभी हाथ नहीं धो सकते.

ये थे उपस्थित

मौके पर पार्टी के राज्य सचिव गोपीकांत बक्शी, सुरजीत सिन्हा, जिला सचिव सुरेंद्र सिंह, अयूब खान, ललन राम, रसीद मियां, बैजनाथ ठाकुर, शोभन उरांव, बालेश्वर उरांव, साजिद खान, निरंजन ठाकुर, प्रदीप ठाकुर, सनीफ मियां, बादशाह खान, परवेज खान समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- मुख्यमंत्री ने माना नगड़ी में डीबीटी योजना शुरू करना सरकार की चूक थी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: