न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची के अमित पहुंचे टेरेंस लेविस के वर्कशॉप में, कहा – डांस ही जिंदगी

519

Ranchi : डांस का नाम सुनते ही कोई भी थोड़ा झूम जाता है. वैसे इन दिनों डांस का क्रेज भी काफी बढ़ गया है. हर गली मोहल्ले में डांस क्लास का बोर्ड लगा हुआ दिख ही जाता है.

mi banner add

ऐसे डांस क्लास में ही सीखकर बच्चे बहुत आगे निकल जाते हैं और रियाल्टी शो तक भी पहुंच जाते हैं. लेकिन इसके पीछे कड़ा अभ्यास और टीचर की मेहनत भी होती है.

ऐसे ही एक डांस टीचर हैं रांची के अमित कुमार सिंह. यूं तो बचपन से ही इन्हें डांस का बहुत शौक था. लेकिन बाद में इन्होंने डांस को ही अपना करियर बना लिया. रांची स्थित हरमू के रागरंग डासिंग इंस्टीट्यूट में छोटे से लेकर बड़े बच्चों तक को हर स्टाइल का डांस का सिखाते हैं.

इसे भी पढ़ें – धनबादः अमित शाह का राहुल पर हमला, आतंकियों से इलू-इलू करती है राहुल बाबा एंड कंपनी

रागरंग में बच्चों को देते हैं ट्रेनिंग

रांची के अमित पहुंचे टेरेंस लेविस के वर्कशॉप में, कहा – डांस ही जिंदगी
रागरंग के बच्चे अमित के साथ

अपनी मेहनत के दम पर ही अमित का चुनाव देश के मशहूर कोरियोग्राफर टेंरेंस लेविस के वर्कशॉप के लिए हुआ. झारखंड से एकमात्र ही अमित थे, जिनका चुनाव इस वर्कशॉप के लिए हुआ. अमित का कहना है कि ऐसे तो इनका डांस स्टाइल बॉलिवुड है.

लेकिन टेरेंस के वर्कशॉप में जाकर इन्होंने डांस के कई नये तरीके सीखे. जिसमें मुख्य रूप से बॉलिहॉप है. इस डांस स्टाइल में अमित ने जो सीखा , अब वे बच्चों को भी उसे पूरी तरह से सिखाने का प्रयास कर रहे हैं.

रागरंग के बच्चे भी अपने अमित सर पर जान छिड़कते हैं. उनके ट्रेनिंग से लौटने के बाद बच्चों ने उनका ग्रैंड वेलकम भी किया था. साथ ही रागरंग की संचालिका प्रीति सिन्हा भी अमित की काफी तारीफ करती हैं और उनके टैलेंट को भी सलाम करती हैं. हालांकि प्रीति भी अपने डांस स्कूल में बच्चों पर काफी ध्यान देती हैं, सबकी सुविधा का ख्याल भी रखती हैं.

Related Posts

बकरी बाजार मैदान में कॉम्प्लेक्स बनाने के निर्णय को रद्द करने की मांग, AAP ने मेयर को सौंपा ज्ञापन

पार्टी ने मांग की कि उस मैदान को बच्चों के खेल के मैदान-पार्क के रूप में विकसित किया जाये

इसे भी पढ़ें – जानें सीएम की वो कौन सी 113 घोषणाएं हैं, जिन्हें 150 दिनों में पूरा करने पर लगी पूरी ब्यूरोक्रेसी

पिता रहते थे खफा

अमित की सबसे बड़ी खासियत यह है कि उन्होंने कहीं से डांस की ट्रेनिंग नहीं ली है. बचपन का शौक इतना हावी होता चला गया कि डांस करते –करते अमित कब टीचर बन गये, उन्हें खुद भी पता नहीं चला. रांची के डीपीएस के अलावा कई अन्य स्कूलों में बच्चों को डांस की ट्रेनिंग दे चुके हैं.

अमित बताते हैं कि शुरू में उन्होंने काफी स्ट्रगल किया और पिता की नाराजगी भी उन्हें झेलनी पड़ी. लेकिन मां उनके हर कदम पर साथ रहती थीं और हर तरह से सपोर्ट करती थीं. लेकिन अब हालात ये हैं कि अमित खुद इस काबिल हो गये हैं कि पिता का सहारा भी हैं.

अपने परिवार की हर जरूरत का ख्याल भी रखते हैं. अमित की कोशिश है कि अब जल्दी ही मुंबई जायें और एक बड़ा कोरियोग्राफर बन जायें.

हालांकि डांस के अलावा मूर्तियां गढ़ने की शौक भी अमित को है और दुर्गा पूजा से लेकर सरस्वती पूजा तक के लिए इन्होंने मूर्तियों को गढ़ा है.

इसे भी पढ़ें – CBSE:  महज पांच वर्षों में ही एंजेल्स हाई ने बनाया राज्यस्तरीय रिकॉर्ड, दिया स्टेट टॉपर

 

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: